विचार

प्रतीकात्मक चित्र आतंकवाद की समस्या पर लगाम लगाने की तमाम कोशिशों के बाद भी दुनिया को इससे छुटकारा नहीं मिल पा रहा है। एक तरफ आईएस जैसे संगठन की कमर टूट गई है तो दूसरी तरफ अल कायदा के फिर से मजबूत होने की खबरें आ रही हैं। हमारे लिए यह खास तौर से चिंता
0 Comments
पहले 13 दिन, फिर 13 महीने और फिर एक पूरा कार्यकाल – प्रधानमंत्री के रूप में यही इतिहास रहा अटल बिहारी वाजपेयी का। लेकिन यह तो सिर्फ अवधि की बात हुई, उस अवधि में जो काम उन्होंने किया, उसके मूल्यांकन के लिए वक्त को फुर्सत से बैठना पड़ेगा। यह ऐसा काम नहीं है कि चलते-चलते
0 Comments
ग्लोबल वार्मिंग की उलटबांसी यूरोप इन दिनों भीषण गर्मी से जूझ रहा है। स्पेन, पुर्तगाल और दक्षिणी फ्रांस सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं जहां कई इलाकों में 47 डिग्री सेल्सियस तक तापमान रेकॉर्ड किया जा चुका है। जर्मनी में 40 और ब्रिटेन में 38 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया जा रहा है। मौसमविज्ञानियों का अनुमान
0 Comments
एससी-एसटी ऐक्ट एससी-एसटी ऐक्ट को पहले की तरह ही मजबूत बनाया जाएगा। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को इस कानून में संशोधन के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। संसद के इसी सत्र में यह बिल लाया जाएगा। 20 मार्च को सुप्रीम कोर्ट ने इस कानून के प्रावधानों में कई बदलाव करते हुए ऐसे मामले में आरोपियों
0 Comments
अमेरिकी कांग्रेस द्वारा खास संशोधन बिल पास करके भारत जैसे देशों के लिए रूस के साथ हथियार सौदे करने की गुंजाइश बनाए जाने की खबर उत्साहित करनेवाली है। पिछले दिनों सीनेट ने नैशनल डिफेंस अथॉराइजेशन ऐक्ट (एनडीएए) भारी बहुमत से पारित कर दिया, जिसके बाद इसे राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की मंजूरी के लिए भेजा गया
0 Comments
असम के नैशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजंस (एनआरसी) को लेकर देश में जिस तरह की राजनीति शुरू हो गई है, उससे यह मामला और उलझने का खतरा पैदा हो गया है। एनआरसी के फाइनल ड्राफ्ट में जो भी कमियां हों, पर याद रखना होगा कि यह सिर्फ ड्राफ्ट है, अंतिम सूची नहीं। यानी कमियों को दूर
0 Comments
महंगाई की बढ़ती आशंका को लेकर सतर्क भारतीय रिजर्व बैंक ने लगातार अपनी दूसरी मौद्रिक नीति में भी रीपो रेट 0.25 फीसदी बढ़ा दिया है। रीपो रेट वह ब्याज दर है, जिस पर तमाम भारतीय बैंक अपने कारोबार के लिए आरबीआई से रकम उठाते हैं। यह दर जून में 6 फीसदी से बढ़कर 6.25 फीसदी
0 Comments
बिहार के मुजफ्फरपुर शहर में स्थित सरकारी बालिका गृह में असहाय लड़कियां जो नरक भुगत रही थीं, उसके ब्यौरे उजागर होने के साथ ही हर भारतीय नागरिक का सिर शर्म से झुकता जा रहा है। बरसों से यह सरकारी बालिका गृह नियम-कानूनों को ठेंगा दिखाते हुए चलाया जाता रहा और निगरानी व निरीक्षण इसके लिए
0 Comments
अभी असम में पैदा हुई असाधारण स्थिति से निपटने के लिए काफी सूझ-बूझ और धैर्य की जरूरत है। राज्य में नागरिकता की लिस्ट जारी कर दी गई है। नैशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजनशिप (एनआरसी) के मुताबिक असम में रहने वाले 2.89 करोड़ लोग वैध नागरिक हैं लेकिन वहां रह रहे 40 लाख लोगों की नागरिकता सिद्ध
0 Comments
20 जुलाई से ही देश में ट्रकों की हड़ताल चल रही है। ट्रांसपोर्टरों की मुख्य परेशानी डीजल के ऊंचे होते भाव से है। उनका कहना है कि इसे भी जीएसटी में शामिल करके राज्यों और केंद्र सरकार द्वारा इस पर लगाए जाने वाले अलग-अलग करों से निजात दी जाए तो कीमतों का सिरदर्द कम होगा।
0 Comments
पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी (पीटीआई) का सत्ता तक पहुंचना न सिर्फ पाकिस्तान के लिए बल्कि पूरे दक्षिण एशिया के लिए एक बड़े सियासी बदलाव का सूचक है। भारतीय महाद्वीप के सभी देशों में दो प्रमुख पार्टियों या कहें कि दो प्रमुख राजनीतिक ताकतों की लड़ाई ही देखी जाती रही है, लेकिन पाकिस्तान में तीसरी धारा के
0 Comments
भ्रष्टाचार उन्मूलन (संशोधन) विधेयक 2018 को पारित कर लोकसभा ने कदम तो बड़ा उठाया है, पर इसके खतरे भी कम नहीं हैं। राज्यसभा यह बिल पहले ही पास कर चुकी है, यानी राष्ट्रपति की मंजूरी मिलते ही यह कानून बन जाएगा। इसकी खासियत यह है कि पहली बार इसमें रिश्वत लेने के साथ-साथ रिश्वत देने
0 Comments
जोहानिसबर्ग में 10वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन का आयोजन ऐसे समय में हो रहा है जब पूरा विश्व अमेरिकी संरक्षणवाद के खतरे का सामना कर रहा है। हर तरफ चिंता है कि विश्व व्यापार पर इसका क्या असर पड़ेगा? जाहिर है, अभी ब्रिक्स के सामने व्यापार युद्ध के असर से खुद को और पूरी दुनिया को
0 Comments
सुप्रीम कोर्ट का सख्त रुख अखबारों के फ्रंट पेज पर लगभग रोज ही मॉब लिंचिंग की कोई न कोई दिल दहला देनेवाली खबर देखने के आदी हो चले देश को इस मसले को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से राहत मिली है। समाज में गहरी चिंता के बावजूद इस मामले में सरकार के स्तर पर
0 Comments
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को पार्टी के शीर्ष निकाय कांग्रेस वर्किंग कमिटी (सीडब्लूसी) के पुनर्गठन की घोषणा की। पुनर्गठन की सबसे खास बात है पार्टी नेतृत्व में युवा नेताओं का दखल बढ़ाना। राहुल गांधी ने इस दिशा में की गई पहली कवायद में ही ज्योतिरादित्य सिंधिया, जितिन प्रसाद, दीपेंद्र हुड्डा और कुलदीप बिश्नोई
0 Comments
पास हो महिला आरक्षण बिल यूं तो आज से शुरू हो रहे संसद के मॉनसून सत्र में कई जरूरी बिल विचार के लिए रखे जाएंगे, लेकिन अरसे से लटके महिला आरक्षण विधेयक को पास करने का यह सबसे उपयुक्त अवसर है। आज जब देशभर से महिलाओं के साथ यौन उत्पीड़न और अन्य तरह के अन्याय
0 Comments