राशि

हाल ही 5 राज्यों में संपन्न हुए विधान सभा चुनावों में कांग्रेस ने हिंदी पट्टी के उन तीन राज्यों में अपने आप को बेहद मजबूत पार्टी के रूप में प्रस्तुत किया है, जो अभी तक बीजेपी का गढ़ माने जाते थे। इनमें मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान हैं। राहुल गांधी के इस राजतिलक को पीतांबरा
0 Comments
संकलन : अंजु अग्निहोत्री संगीत सम्राट तानसेन अकबर के दरबार दीवान-ए-खास में तानपूरा छेड़ते, आलाप भरते तो बादशाह अकबर वाह-वाह करते रह जाते। यह देख उनके चापलूस दरबारी भी वाह-वाह करने लगे। उनकी चापलूसी भरी वाह-वाही से परेशान होकर अकबर ने बीरबल से इस मर्ज का स्थायी इलाज करने को कहा। सम्राट अकबर के आदेश
0 Comments
विनोद कुमार यादव पिछले दिनों मेरे एक मित्र का यह वाट्सऐप मैसेज आया, ‘प्रतिकूल परिस्थितियों में शांतचित्त बने रहना और नेगेटिव माहौल में अपने-आप को पॉजिटिव बनाए रखना यानी अपने भीतर आध्यात्मिकता को जगाए रखना बेहद मुश्किल है।’ इंसान की प्रकृति त्रिगुणात्मक है- सत्व, रज और तम। हरेक व्यक्ति के भीतर सतोगुण, रजोगुण और तमोगुण
0 Comments
इस बार 12 दिसंबर को विवाह पंचमी है। मार्गशीर्ष के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को विवाह पंचमी के नाम से जाना जाता है। इसका कारण है इस तिथि को स्वयं श्रीराम और माता सीता का विवाह होना। त्रेतायुग में जब भगवान विष्णु के अवतार श्रीराम और माता लक्ष्मी की प्रतिछाया मां सीता ने एक
0 Comments
व्यापारी वर्ग को आज अनावश्यक अधिक परिश्रम करना पड़ेगा। सरकारी नौकरी करने वालों को वरिष्ठ अधिकारी के क्रोध का सामना करना पड़ सकता है। शाम के वक्त सामाजिक संबंध लाभदायक रहेगा। नई योजना की तरफ ध्यान दें, अचानक लाभ हो सकता है।
0 Comments
किसी भी योजना को बनाकर उसे गुप्त रखना अतिआवश्यक है। भाई, बहन, बंधु-बांधवों से विचार के तालमेल का अभाव बनेगा, सहकर्मियों से भी संबंध में गड़बड़ी आएगी।
0 Comments
आज कोई अशुभ घटना घट सकती है। कार्यव्यवहार में सावधानी बरतने की गणेशजी सलाह देते हैं। आज तबीयत खराब होने की आशंका है। संभव हो सके तो शल्यचिकित्सा से बचें, इसके लिए आज दिन शुभ नहीं है। क्रोध पर काबू रखें, हानि होने की आशंका है। सामाजिक स्थल पर मानहानि न हो जाए इसका ध्यान
0 Comments
(आज भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी युवराज सिंह का जन्मदिन हैं, इन्हें जन्मदिन की ढ़ेरों बधाई। साथ ही आज जिन लोगों का जन्मदिन है, उन्हें भी बहुत बहुत बधाई।) यह वर्ष सिंह लग्न में सुवर्ण पाद के प्रवेश कर रहा है, यह आपके लिए मिश्रित फलकारक है। दिसंबर माह आरंभ में महत्वाकांक्षी प्रवृति वालों के लिए मनोरथ
0 Comments
राष्ट्रीय मिति मार्गशीर्ष 21 शक संवत् 1940 मार्गशीर्ष शुक्ल पंचमी बुधवार विक्रम संवत् 2075। सौर मार्गशीर्ष मास प्रविष्टे 27, रवि उल्सानी 04, हिजरी 1440 (मुस्लिम) तदनुसार अंग्रेजी तारीख 12 दिसंबर सन् 2018 ई०। दक्षिणायण, दक्षिण गोल, हेमंत ऋतु। राहुकाल मध्याह्न 12 बजे से 1 बजकर 30 मिनट तक। पंचमी तिथि रात्रि 11 बजकर 6 मिनट
0 Comments
12 दिसंबर बुधवार को दिन रात ग्रहण योग के प्रभाव बना रहेगा। चन्द्रमा केतु के साथ चलते हुए अगले दिन सुबह कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे। ऐसे में आज का दिन आपके लिए कैसा रहेगा, किन-किन मामलों में परेशानी होगी, किन मामलों में खुशी मिलेगी, जानिए क्या कहते हैं आपकी किस्मत के सितारे।
0 Comments
पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान राम और माता सीता स्वयं श्रीहरि विष्णु और माता लक्ष्मी का अवतार थे। हिंदी मास मार्गशीर्ष के शुक्ल की पंचमी तिथि को श्रीराम जनकपुर की राजकुमारी माता सीता के साथ विवाह बंधन में बंधे थे। यह त्रेतायुग की बात है, तब से अब तक इस तिथि को विवाह पंचमी के
0 Comments
बेंगलुरु के एक मंदिर में भगवान विष्णु की मूर्ति की स्थापना होनी है। लेकिन इस मंदिर में जिस मूर्ति को स्थापित किया जाना है, वह पिछले दो साल से तमिलनाडु के तिरुवन्नामलाई शहर में रखी हुई है। आखिर ऐसी क्या वजह है कि चाहकर भी इस मूर्ति को बेंगलुरु लाकर मंदिर निर्माण का कार्य अब
0 Comments
बेंगलुरु के एक मंदिर में भगवान विष्णु की मूर्ति की स्थापना होनी है। लेकिन इस मंदिर में जिस मूर्ति को स्थापित किया जाना है, वह पिछले दो साल से तमिलनाडु के तिरुवन्नमलई शहर में रखी हुई है। आखिर ऐसी क्या वजह है कि चाहकर भी इस मूर्ति को बेंगलुरु लाकर मंदिर निर्माण का कार्य अब
0 Comments
तब रुथ हैंडलर अपने पति इलियट हैंडलर के साथ गुड़िया घर के लिए फर्नीचर बनाती थीं। एक दिन उन्होंने देखा कि उनकी बेटी बारबरा और उनकी सहेलियां कार्ड बोर्ड की गुड़ियों से खेलते वक्त बड़ी खुश थीं व उस गुड़िया में अपने बड़े होने की छवि देख रही थीं। वे उस गुड़िया का ऐसे ध्यान
0 Comments
सनातन धर्म से संबंधित धार्मिक पुस्तकों में पंचकाशी का उल्लेख मिलता है। इन पुस्तकों में वर्णित कथाओं के अनुसार, पृथ्वी पर एक नहीं बल्कि पांच काशी हैं। इन पांच काशियों को पंचकाशी नाम से संबोधित किया जाता है। आइए, आज जानते हैं कि कौन-सी हैं ये पांच काशी, क्या हैं इनके नाम और कहां स्थित
0 Comments