राशि

वासंतिक नवरात्र के साथ ही गुड़ी पड़वा की दस्‍तक होती है। कहा जाता है कि इसी दिन से ही हिंदू नववर्ष की शुरुआत होती है। चैत्र मास की शुक्‍ल प्रतिपदा को गुड़ी पड़वा या वर्ष प्रतिप्रदा या युगादि कहा जाता है। इस बार गुड़ी पड़वा पर्व 6अप्रैल 2019 को मनाया जाएगा। गुड़ी पड़वा पर्व को
0 Comments
मां की आराधना के लिए किसी दिन विशेष की जरूरत तो नहीं होती बस श्रद्धा चाहिए लेकिन नवरात्र को बेहद खास माना गया है। चाहे वासंतिक हो या शारदीय। इन दिनों में मां की पूजा और दर्शन से विशेष फल मिलता है। ऐसे में अगर आप मां के किसी मंदिर में दर्शन के लिए जाना
0 Comments
मां की आराधना के लिए किसी दिन विशेष की जरूरत तो नहीं होती बस श्रद्धा चाहिए लेकिन नवरात्र को बेहद खास माना गया है। चाहे वासंतिक हो या शारदीय। इन दिनों में मां की पूजा और दर्शन से विशेष फल मिलता है। ऐसे में अगर आप मां के किसी मंदिर में दर्शन के लिए जाना
0 Comments
आचार्य कृष्णदत्त शर्मा(मशहूर कमिडियन कपिल शर्मा का आज जन्मदिन है। इनके साथ आज जिन लोगों का भी जन्मदिन है उन्हें उज्ज्वल भविष्य के लिए ढेरों शुभकामनाएं।) वृश्चिक राशि का बृहस्पति और शनि आपके मूल अंक के स्वामी बन रहे हैं। इस वर्ष शक्तिशली जीव साक्षिणी देहधारी प्रधान ग्रह मुंथा आपके वर्षभर की संचाल ग्रह बनी
0 Comments
यूं तो मां भवानी की पूजा हमेशा से ही नियमों के साथ की जाती है लेकिन नवरात्रि में इस बात का विशेष ख्‍याल रखा जाता है कि पूजा विधि-विधान से की जाए। यदि इन 9 दिनों में मां की पूजा में कोई भूल हो जाए तो उसे पूजा का फल नहीं मिलता। तो आइए जानते
0 Comments
ललित गर्गहर लम्हा हमें यह कहकर जगाता है कि हम केवल सदियों पुराना इतिहास ही नहीं दुहराएं, स्वयं नया इतिहास भी रचें। हमें कोई औरों के नाम से न पहचाने, हम अपने संकल्प एवं कर्म से स्वयं को नई पहचान दें। खुद नए पदचिह्न स्थापित करें। अगर हमने आंखें खोलकर वस्तुस्थिति को देखना नहीं सीखा,
0 Comments
संकलन: राधा नाचीजउन दिनों महात्मा गांधी साबरमती आश्रम में रह रहे थे। एक दिन एक नवयुवक उनके पास आया और बोला, ‘बापूजी, मैं भी देश सेवा करना चाहता हूं। आप मुझे मेरे योग्य कोई सेवा बताइए। मैं अंग्रेजी का भी अच्छा ज्ञाता हूं। मैंने उच्च स्तर तक पढ़ाई की है और मेरे रहन-सहन का स्तर
0 Comments
डॉ. अश्विनी शास्त्रीवर्तमान सप्ताह का शुभारंभ चैत्र कृष्ण पक्ष की बारहवीं तिथि और घनिष्ठा नक्षत्र के साथ हो रहा है। वर्तमान चैत्र कृष्ण पक्ष आगामी 5 अप्रैल को अमावस्या के साथ समाप्त हो जाएगा। तदुपरान्त 6 अप्रैल से चैत्र का शुक्ल पक्ष आरंभ हो जाएगा और नवरात्र एवं नव विक्रमी संवत् का शुभारंभ भी इसी
0 Comments
करियरः व्यवसाय में किसी भी नए काम में हाथ न डालें अन्यथा इसके परिणाम विपरीत हो सकते हैं। पारिवारिक जीवनः समाजिक उत्थान, मान प्रतिष्ठा में वृद्धि के शुभ संकेत मिल रहे हैं। आर्थिक स्थितिः ज़मीन जायदाद और वाहन के मामलों में लाभ मिलेगा। स्वास्थ्य: गठिया अथवा जोड़ो में दर्द सम्बंधित रोगों के होने की सम्भावना
0 Comments
करियरः कार्यस्थल में किसी से उलझे ना, अनावश्यक वार्तालाप करने से लड़ाई हो सकती है। वाणी में मधुरता लाएं। पारिवारिक जीवनः सभी सदस्‍यों के बीच प्रेम-सौहार्द देखने को मिलेगा। सभी आज काफी खुश रहेंगे। हर तरफ खुशियों का ही मौहाल रहेगा। आर्थिक स्थितिः लेन-देन करने से बचें। यदि किसी के साथ लेन-देन करना ही पड़े
0 Comments
करियरः वह कोई कार्य न करें जो आपको बोझ मालूम पड़े, अनावश्यक विवाद हो सकता है। किसी नजदीकी सहयोगी के कारण परेशानी में पड़ने की आशंका है। ध्यान रखें। पारिवारिक जीवनः जीवनसाथी से आपको काफी सहयोग मिलेगा। साथ ही घर का वातावरण सौहार्द पूर्ण रहेगा। आर्थिक स्थितिः अपने खर्चों को नियंत्रण में रखना आपकी पहली
0 Comments
करियरः दैनिक मामलों में बेवजह की बहस सहयोगियों के साथ विवादों और झगड़े को जन्म दे सकती है, ध्यान रहे जो लोग समय के साथ चलते है, उन्हें समस्यायें नहीं उलझाती हैं। पारिवारिक जीवनः पारिवार के साथ यात्रा पर जाने का योग है। आर्थिक स्थितिः जो लोग धन संबंधी या वित्तीय सहायता पाना चाहते हैं,
0 Comments
आचार्य कृष्णदत्त शर्मा(आज सिक्‍खों के 9वें गुरु तेग बहादुर साहिब जी, फौजा सिंह सिख खिलाड़ी और भारत के 12 वें उपराष्‍ट्रपति रहे मोहम्‍मद हामिद अंसारी का जन्‍मदिन है। इनके साथ आज जिनका भी जन्‍मदिन है, उन्‍हें उज्जवल भविष्य की हार्दिक शुभकामनाएं।) इस साल चन्द्रमा और मंगल वर्ष के स्वामी है। अप्रैल शेष से मई अंत
0 Comments
राष्ट्रीय मिति चैत्र 11, शक संवत् 1941, चैत्र कृष्ण द्वादशी सोमवार, विक्रम संवत् 2075। सौर चैत्र मास प्रविष्टे 19, रज्जब 24, हिजरी 1440 (मुस्लिम) तदनुसार अंग्रेजी तारीख 01 अप्रैल सन् 2019 ई०। सूर्य उत्तरायण, उत्तर गोल, बसन्त ऋतु। राहुकाल प्रातः 7 बजकर 30 मिनट से 9 बजे तक। द्वादशी तिथि सूर्योदय से लेकर अगले दिन
0 Comments
बसंत ऋतु आते ही अपने साथ लाती है मां दुर्गा के आगमन का संदेश। इसी दौरान हम साल में दो बार होने वाले नवरात्र का पहला नवरात्र यानी कि वासंतिक नवरात्र मनाते हैं। दूसरा नवरात्र अश्विन माह में मनाया जाता है। यूं तो दोनों ही नवरात्रों का बड़ा महत्‍व है लेकिन वासंतिक नवरात्र का विशेष
0 Comments
धन लाभ के लिए विशेष संघर्ष करना पड़ेगा, किसी तीसरे व्यक्ति के कारण प्रिय व्यक्तियों से वाद-विवाद एवं कष्ट प्राप्त होगा। यात्रा में कष्ट एवं मानसिक परेशान हो सकते है। अज्ञात भय के कारण नींद की समस्या बनी रहेगी। रक्तचाप, हृदय रोग, उदर विकार, नेत्रविकार आदि होने की आशंका बन सकती है। विष्णु भगवान की
0 Comments