फ़िल्म रिव्यू

आपने आमतौर पर सोशल मीडिया पर युवाओं के रिलेशनशिप स्टेटस के आगे पढ़ा होगा ‘इट्स कॉम्प्लिकेटेड’। इम्तियाज अली की ‘लव आज कल’ भी प्यार और रिलेशनशिप के उसी कॉम्प्लिकेशंस को दर्शाती है। प्यार जटिल होता है और वो परफेक्ट नहीं हो सकता। इम्तियाज ने इसी तर्ज पर ‘लव आज कल’ को बुना है। आज से
0 Comments
बीस साल पहले निर्माता-निर्देशक विधु विनोद चोपड़ा रितिक-संजय दत्त अभिनीत ‘मिशन कश्मीर’ लाए थे। एक बार फिर वे शिकारा के जरिए दर्शकों को नब्बे के उस दशक में ले चलते हैं, जब तकरीबन 4 लाख कश्मीरी पंडितों को अपने घरों से निकाल कर विस्थापित कर दिया गया था। फिल्म के संवेदनशील विषय के कारण फिल्म
0 Comments
टाइम्स न्यूज नेटवर्क, Thu,6 Feb 2020 09:48:30 +05:30 हमारी रेटिंग 3.5 / 5 पाठकों की रेटिंग 3.5 / 5 कलाकारआदित्य रॉय कपूर,अनिल कपूर,दिशा पाटनी,कुणाल खेमू निर्देशक मोहित सूरी मूवी टाइपRomance,Action,Drama अवधि2 घंटा 14 मिनट
0 Comments
‘हैपी हार्डी ऐंड हीर‘ बतौर ऐक्टर हिमेश रेशमिया की यह दसवीं फिल्म है। कलाकार के रूप में अपनी खूबियों-खामियों को जानते हुए उन्होंने खुद को दमदार संगीत के साथ डबल रोल में पेश किया है। परदे पर उन्हें दोहरी भूमिका में देखकर यह अंदाजा हो जाता है कि उन्होंने अपने अभिनय पक्ष पर कड़ी मेहनत
0 Comments
पल्लबी डे पुरकायस्थपाकिस्तानी सोशल ऐक्टिविस्ट और नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई के जीवन पर यह फिल्म ‘गुल मकई‘ बनाई गई है। इसका निर्देशन एच.ई. अमजद खान ने किया है। मलाला पर बनी इस फिल्म का फैंस को बेसब्री से इंतजार था। कहानी: ‘गुल मकई’ की कहानी पाकिस्तानी नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफ़ज़ई के जीवन और
0 Comments
नितिन कक्कर के डायरेक्शन में बनी ‘जवानी जानेमन‘ समाज में रिश्तों के बदलते पैमानों की कहानी है। आप इसे यूथ सेंट्रिक फिल्म कह सकते हैं। रिश्तों का जो मॉडर्न रूप इस फिल्म में नजर आता है, उसे जस्टिफाइ करने के लिए निर्देशक ने स्वदेशी किरदारों के साथ विदेशी पृष्ठभूमि को चुनने की समझदारी दिखाई है।
0 Comments
‘बैड बॉयज’ के रूप में ढाई दशक पहले स्क्रीन पर धमाका करने वाले जाबांज पुलिसवालों माइक लॉउरी (विल स्मिथ) और मार्कस ब्रुनेट (मार्टिन लॉरेंस) की जोड़ी साल 2003 में आयी ‘बैड बॉयज 2’ के 17 साल बाद एक बार फिर ‘बैड बॉयज फॉर लाइफ‘ में लौट आई है। उम्र बढ़ने के साथ ये बैड बॉयज
0 Comments
रेमो डिसूजा की ‘स्ट्रीट डांसर 3 डी’ को अगर डांस की विजुअल ट्रीट कहा जाए तो गलत नहीं होगा। इस तरह की कोरियॉग्रफी और हैरतअंगेज डांस स्टेप्स हमने अब तक बॉलिवुड की फिल्मों में नहीं देखे हैं, मगर जितनी अथक मेहनत रेमो ने डांस के क्राफ्ट पर की, उतनी ही अगर वह कहानी पर करते
0 Comments
‘मैं एक मां हूं और मां के कोई सपने नहीं होते।’ अश्विनी अय्यर तिवारी निर्देशित ‘पंगा’ के इस डायलॉग से हर वो औरत खुद को जुड़ा हुआ पाएगी, जिसने अपने घर-परिवार और बच्चों के लिए अपने सपनों को भुलाकर अपनी पहचान तक खो दी हो। फिर फिल्म में एक संवाद और आता है, जहां नायिका
0 Comments
किसी ने सच ही कहा है कि कॉमिडी इज वैरी सीरियस बिजनस। वाकई कॉमिडी हर किसी के बस की बात नहीं। आपने अगर कहानी की डोर में किरदारों को कॉमिक अंदाज में नहीं ढाला, तो समझो आप हंसाने में नाकाम। यही निर्देशक नवजोत गुलाटी की ‘जय मम्मी दी‘ में हुआ है। फिल्म भले कॉमिडी जॉर्नर
0 Comments
वॉर फिल्मों को दर्शाने के लिए फिल्मकारों का पसंदीदा विषय इंडिया-पाकिस्तान की लड़ाई रही है। निर्देशक जुगल राजा भी ‘बंकर’ के रूप में इंडिया-पाकिस्तान के बीच हुए एक ऐसे ही हमले की दास्तान लेकर पेश हुए हैं, जहां घुसपैठिये सीज फायर का उल्लंघन करके कश्मीर के पुंछ इलाके में बने भारतीय बंकर पर धावा बोलते
0 Comments
माफी मांगनेवाले से माफ कर देने वाला हमेशा बड़ा होता है, हम अक्सर ये बात सुनते हैं, फिर भी न जाने कितने लोगों की कितनी बातों को लेकर दिल में नाराजगी पाले रहे रहते हैं। इसके चलते खुद तो दुखी रहते ही हैं, दूसरे को भी सजा देने के लिए दुखी करना चाहते हैं। डायरेक्टर
0 Comments
सिनेमा को हमेशा से समाज का आईना कहा जाता रहा है और बीते सालों में रुपहले पर्दे ने इस बात को लगातार साबित किया है। इस दौर में जिस तरह से सामजिक मुद्दों वाली और महिलाओं की त्रासदी को दिखानेवाली फिल्मों का ट्रेंड चला है, उसमें मेघना गुलजार निर्देशित और दीपिका पादुकोण अभिनीत छपाक सबसे
0 Comments
Reza Nooraniकहानी: अविनाश का लव लेटर प्रेमिका की जगह उसकी लड़की की मां को मिल जाता है और वहीं से शुरू होती हैं कॉमिडी भरी ढेर सारी गलतफहमियां भी। रिव्यू: अविनाश (राजकुमार राव) अपनी फैमिली के साथ शिमला छुट्टियां मनाने पहुंचता है, जहां उसकी नजर एक खूबसूरत लोकल लड़की नैना (रकुल प्रीत) पर पड़ती है
0 Comments
Ronak Kotechaकहानी: एक लोकल नेता और गुंडा बाबा भंडारी (अक्षय खन्ना) पकड़वा शादी यानी जबरन किसी लड़के को पकड़कर किसी लड़की से शादी कराने का काम करता है। इसी काम के दौरान वह एक युवा टीवी जर्नलिस्ट को उठवा लेता है, लेकिन कहानी में मोड़ तब आता है जब उस लड़की से खुद भंडारी को
0 Comments
फेस्टिव सीजन में अगर दर्शकों को फीलगुड फिल्म देखने मिल जाए, तो त्योहार का मजा दुगुना हो जाता है। निर्माता करण जौहर और निर्देशक राज मेहता की ‘गुड न्यूज‘ एक ऐसी ही फिल्म है, जो आपको क्रिसमस के मौके पर भरपूर मनोरंजन देती है और हंसाते-हंसाते कहीं आपकी आंखें नम भी कर जाती है। 2020
0 Comments