Housefull 4 Movie Review: ऊंची दुकान, फीके पकवान है अक्षय कुमार और बॉबी देओल की ‘हाउसफुल 4’

बॉलीवुड, मनोरंजन

नई दिल्ली:

Housefull 4 Movie Review: अक्षय कुमार, बॉबी देओल, रितेश देशमुख, कृति सैनन, कृति खरबंदा, पूजा हेगड़े, चंकी पांडेय और ढेर सारे सितारों के बावजूद ‘हाउसफुल 4’ ‘बड़ा पैकेट छोटा धमाल’ निकलती है. ‘हाउसफुल 4’ की कहानी 1419 के सितमगढ़ की है, जहां अक्षय, बॉबी, रितेश, कृति, पूजा और कृति एक दूसरे से प्यार करते हैं, लेकिन कुछ वजहों से दोनों जुदा हो जाते हैं. छह सौ साल बाद तीनों जोड़े पुनर्जन्म लेते हैं, और इसके बाद फिर शुरू होती है, हाउसफुल टाइप कन्फ्यूजन. कपल्स का मिस मैच और एक के बाद एक ढेर सारे कैमियो. कुल मिलाकर हाउसफुल 4 को पहले तीन पार्ट की तर्ज पर ही गढ़ने की कोशिश की गई है. कहानी बेहद कमजोर है. जबरदस्ती के जोक्स ठूंसे गए हैं, और कई जगह तो हंसी भी नहीं आती है. डायलॉग्स बहुत ही फीके हैं.

‘हाउसफुल 4’ में एक्टिंग की बात करें तो फिल्म में ढेर सारे एक्टर हैं और कई तो इतने बेतुके हैं कि समझ ही नहीं आता उन्हें क्यों डाला गया है. अक्षय कुमार हमेशा की तरह एक्टिंग में कुछ ज्यादा ही लाउड नजर आते हैं. रितेश देशमुख को भी इस तरह के किरदार में देखा जा चुका है. फिल्म के बाकी एक्टर भी कुछ खास करिश्मा नहीं कर पाते हैं. कुल मिलाकर एक कमजोर और बेतुकी कहानी के आधार पर सितारों की फौज को खड़ा किया गया है जिस वजह से फिल्म की नींव चरमराती नजर आती है. फिल्म का कोई भी एक्टर ऐसा नहीं है जो दिल या दिमाग पर अपनी छाप छोड़कर जाता है. 

‘हाउसफुल 4’ के डायरेक्शन की बात करें तो फरहाद सामजी ने फिल्म को बेहद कमजोर और पुराने कॉन्सेप्ट पर खड़ा करने की कोशिश की है. फिल्म में कहानी के नाम पर कुछ भी नहीं है. ‘हाउसफुल 4’ का ‘बाला’ सॉन्ग जरूर अच्छा है, लेकिन बाकी गाने एवरेज हैं. दीवाली के मौके पर अकसर कॉमेडी फिल्मों को रिलीज किया जाता है, इस बार “हाउसफुल 4′ आई है, लेकिन कॉमेडी, कहानी और एक्टिंग तीनों ही मोर्चे पर फिल्म दीवाली सरीखी रोशनी फैलाने में फेल रहती है. फिल्म का बजट लगभग 75 करोड़ रुपये बताया जा रहा है, लेकिन दीवाली का वीकेंड होने की वजह से ‘हाउसफुल 4’ को अच्छी ओपनिंग मिल सकती है, लेकिन इसका बाकी का सफर संघर्ष भरा रह सकता है.

रेटिंगः 2 स्टार
डायरेक्टरः फरहाद सामजी
कलाकारः अक्षय कुमार, रितेश देशमुख, कृति सैनन, कृति खरबंदा और पूजा हेगड़े

टिप्पणियां

…और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें…

Articles You May Like

अब नागरिकता संशोधन बिल की बारी? विरोध क्यों
दिल्ली में ऑक्सीजन कैफे, बिक रहीं ‘साफ सांसें’
बैंकों को पिछड़े क्षेत्रों को कर्ज देने के लिये प्रोत्साहन दिया जाना चाहिये: आरबीआई डिप्टी गवर्नर
चोरों की तरह खिड़की से कमरे में घुस रही थीं विद्या बालन, तभी हुआ कुछ ऐसा…देखें Video
बीजेपी को ‘कमलाबाई’ क्यों कहते थे बाल ठाकरे?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *