दीपावली पर जानिए ग्रह नक्षत्रों की स्थिति में कैसा रहेगा आपका नया साल

राशि


दिवाली इस वर्ष रविवार 27 अक्टूबर को है। इस दिन से नए महालक्ष्मी वर्ष का आरंभ होगा। इस दिन ग्रह नक्षत्रों की स्थिति से पूरे साल का भविष्यफल निकाला जाता है। इस वर्ष महालक्ष्मी वर्ष की गणना क्या कहती है, आपके लिए अगला एक साल कैसा रहेगा जानिए सद्गुरु स्वामी आनंदजी से…

1/12मेष: यात्राओं का योग रहेगा

इस वर्ष दिवाली मेष राशि के लोगों के लिए अंजुली में समेट कर ढेर सारी खुशियां ला रही है। राशि के स्वामी मंगल मिथुन राशि में असहज नजर आ रहे हैं। लेकिन मित्र ग्रह सूर्य की मौजूदगी के कारण बेचैन होकर भी मुस्कुरा रहे हैं। अगले एक वर्ष में यात्राओं का योग रहेगा। तनाव में रहेंगे। उदर और जननांगो से संबंधित तकलीफ हो सकती है। वाणी के चातुर्य से लाभ होगा। अपनों से कष्ट और गैरों से सुकून मिलेगा। कानूनी मामलों से परेशानी होगी लेकिन जेब की गर्मी ठंडक देगी। शनि धनु राशि के अंतिम पायदान पर हैं। लौहपाद का नौवां शनि सिर घुमाएगा, छोटी-छोटी परेशानियां भी बड़ी लगेंगी। 24 जनवरी 2020 की दोपहर 12 बजकर 4 मिनट पर जब शनि अपनी ही राशि मकर में आएंगे तो, चैन की बांसुरी बजाएंगे। ताम्रपाद का दसवां शनि नए रिश्तों के सहयोग से कामयाबी का मौका देगा। राहू मिथुन व केतु धनु में रहेंगे। ताम्रपाद तीसरा राहू और नवां केतु सुख, समृद्धि और आनंद के लिए जाना जाता है, यानी सुख बढ़ेगा। नए घर में जाने का अवसर मिल सकता है।

महालक्ष्मी वर्ष: देखें अगला एक साल आर्थिक और करियर के मामले में कैसा रहेगा

2/12वृषभ: लोग राहत की सांस लेंगे

दिवाली की महानिशा इस बार जगमगाएगी और अपने पिटारे में वृष राशि वालों के लिए ढेरों सौगात लाएगी। इस दीपोत्सव पर ऐश्वर्य के कारक शुक्र मित्र चंद्रमा और शत्रु सूर्य के साथ अपनी ही राशि तुला में रहेंगे। तुला का शुक्र उत्तम लाभ और आनंद प्रदान करेगा। ताम्रचरण का अष्टम शनि प्रतिष्ठा और शरीर के निचले भाग में कष्ट दे सकता है। यह शनि यौन विकार का भी कारक है। शनि की उतरती ढैय्या जिंदगी में नव पुष्प खिलाएगी। कभी खिलखिलाएगी कभी आंख दिखाएगी। 24 जनवरी 2020 को दिन चढ़े 12 बजकर 4 मिनट पर जब शनि अपनी ही राशि मकर में में जाएंगे, प्रसन्नचित्त नजर आएंगे। वृष राशि के लोग राहत की सांस लेंगे। स्वर्ण चरण का नौवां शनि आर्थिक उलझन के पश्चात लाभ प्रदान करेगा। राहु मिथुन व केतु धनु में रहेंगे। रजत चरण का द्वितीय राहु और अष्टम केतु संघर्ष के बाद लाभ दिलाएगा। स्वास्थ्य का ध्यान रखना होगा। 24 जनवरी के बाद वक्त की चाल अनुकूल नजर आएगी।

3/12मिथुन: मान-सम्मान के प्रति सचेत रहें

मिथुन राशि वालों के लिए महालक्ष्मी वर्ष व्यस्तता, भागदौड़ और उलझनों के साथ के साथ आनंद भी मिलेगा। दिवाली पर राशि स्वामी बुध अपने मित्र शुक्र की राशि तुला में संचार करेंगे। स्वर्ण पाद का सप्तम शनि शारीरिक कष्ट और वैचारिक उलझन देगा लेकिन विदेश और दूर रहने वालों से संपर्क बनाएगा। मान-सम्मान प्राप्त होगा। 24 जनवरी 2020 को जब शनि मकर में जाएंगे, इस राशि के लोग शनि की ढैय्या के प्रभाव में आ जाएंगे। स्वर्ण चरण का प्रथम राहु और सप्तम केतु शारीरिक कष्ट देगा। दौड़-भाग से मामूली अर्थलाभ और ज्यादा थकान होगी। पारिवारिक मतभेद से अशांति रहेगी। मान-सम्मान के प्रति सचेत रहें। 23 सितंबर 2020 को सुबह 8 बजकर 24 मिनट पर जब राहु वृष और केतु वृश्चिक में जाएंगे, अच्छी खबर लाएंगे। वाद-विवाद और कानूनी मामलों में सहसा ही पलड़ा भारी हो जाएगा। लेकिन कर्ज का बोझ और अधिक खर्च परेशान करेगा। अपनी भावुकता पर नियंत्रण रखें। वर्ष के उत्तरार्ध में नए गृह में जाने का योग है। आनेवाला काल नाम और प्रतिष्ठा के विस्तार के लिए जाना जाएगा। फिलहाल ताम्र पाद का छठा गुरु कमर, पीठ और पैरों में दर्द देगा।

धनतेरस के साथ जुड़ा है देवी लक्ष्मी का यह शाप, पढ़ने और सुनने से बढ़ता है धन

Recommended byColombia

4/12कर्क: विदेशों से होगा लाभ

आपकी राशि के स्वामी शुक्र दिवाली के अवसर पर शुक्रदेव की राशि तुला में मित्र सूर्य और शुक्र के साथ संचार करेंगे। आने वाला साल जिंदगी में उड़ान की दास्तान के कई नए पन्ने जोड़ेगा। शनि देवगुरु वृहस्पति की राशि धनु में गतिशील हैं। रजत चरण का छठा शनि करियर को ऊंचाई पर ले जाएगा लेकिन त्वचा संबंधी समस्याओं को भी जन्म देगा। यह योग विदेशों से लाभ दिलाएगा। रसूखदार लोगों से नज़दीकियां बढेगी। धन लाभ बढ़ेगा और कर्ज से मुक्ति का मार्ग निकलेगा। 24 जनवरी 2020 जब शनि अपनी ही राशि मकर में आएंगे तो रिश्तों को समझदारी से संभालना होगा। मान सम्मान में वृद्धि होगी। राहु केतु की स्थिति से आपके खर्चे बढेंगे। 23 सितंबर 2020 को सुबह 8 बजकर 24 मिनट पर राहु वृष और केतु वृश्चिक में आएंगे, यह आपके लिए शुभ रहेगा। रजत पाद के एकादश राहु और पंचम केतु करियर को नई ऊंचाई देंगे और समृद्धि में वृद्धि होगी। 5 नवंबर 2019 की मध्य रात्रि में गुरु अपनी ही राशि धनु में मार्गी होकर आएंगे जिससे जीवन में कई तरह की उलझनों का सामना करना होगा। मार्च के बाद गुरु के परिवर्तन से लाभ के अवसर मिलेंगे।

5/12सिंह: दिवाली रहेगी शुभ

इस राशि वालों के लिए यह दिवाली बहुत ही शुभ है। राशि स्वामी सूर्य दिवाली पर शुक्र और चंद्र के साथ होंगे। यह संयोग आपको लाभ और उपहार दिलाएगा। लेकिन धनु राशि संचार कर रहे शनि मन में उदासी, कलह और तनाव के साथ सिर में पीड़ा देगा। लौह चरण का पंचम शनि शेयर बाजार में फूंक-फूंक कर कदम रखने की सलाह दे रहा है। नौकरी-व्यवसाय में तनाव हो सकता है लेकिन आकस्मिक लाभ भी मिलेगा। जनवरी के बाद रजत पाद का छठा शनि आनन्द प्रदायक रहेगा। यह करियर को नया आकाश और मन में विश्वास देगा। स्वर्ण पाद का एकादश राहु और पंचम केतु मान-प्रतिष्ठा को शिखर पर पहुंचाएगा। लेकिन 23 सितंबर के बाद राहु-केतु का बदलाव परेशान करेगा। फिलहाल 5 नवंबर की मध्य रात्रि जब गुरु धनु राशि में आएंगे तो सुख, संपत्ति और आनंद बढाएंगे।

यूं ही नहीं कहलाता महापर्व: जानिए धनतेरस से लेकर भैयादूज तक का महत्व

6/12कन्या: अच्छी खबर सुनने को मिलेगी

इस राशि के लोगों के लिए यह दिवाली खुशियों का उपहार लेकर आ रही है। लेकिन धनु राशि में अंतिम पायदान पर चल रहा शनि धन संपत्ति के मामले में परेशानी देगा। स्वास्थ्य संबंधी परेशानी, आलस और गलत निर्णय से कष्ट हो सकता है। 24 जनवरी के बाद आप ढैय्या से मुक्त हो जाएंगे। रजत पाद का पंचम शनि मिश्रित फल देगा। कोई अच्छी खबर आनंदित करेगी। शारीरिक व्याधि से राहत मिलेगी। ताम्र पाद का दशम राहु और चतुर्थ केतु अनावश्यक उलझन में फंसाएगा। विवादों से दूर रहें। 23 सितंबर के बाद से राहु केतु की स्थिति बदलेगी जो आपके लिए उत्साहवर्धक है। लेकिन सलाह है कि जोखिम से दूर रहें। 5 नवंबर के बाद गुरु आपकी गलतियों के कारण आपको कष्ट देगा। वाहन, माता और मामा को तकलीफ होगी। मार्च 2020 में गुरु जब वृश्चिक में आएंगे तो आपके अच्छे दिन आएंगे।

Recommended byColombia

7/12तुला: परिवार में हो सकता है मतभेद

शनिदेव वृहस्पति की राशि धनु के द्वार पर हैं। स्वर्ण पाद का चतुर्थ शनि जीवनसाथी से अनावश्यक मतभेद पैदा करेगा। 24 जनवरी 2020 की दोपहर 12 बजकर 4 मिनट पर जब शनि अपनी ही राशि मकर में आएंगे, इस राशि के लोग जीवन में उथल-पुथल महसूस करेंगे। रजत पाद का तीसरा शनि समृद्धि कारक होगा। यह लाभ दिलाएगा लेकिन परिवार में मतभेद और विवाद को जन्म देगा। राहु मिथुन व केतु धनु में रहेंगे। विधाता का संकेत है कि रजत पाद का नौवां राहु और तीसरा केतु मानसिक तनाव देगा। यह योग आस्था में दरार का पैदा करता है। 23 सितंबर 2020 को सुबह 8 बजकर 24 मिनट पर राहु वृष और केतु वृश्चिक में आएंगे तब जीवन में खुशियों का संचार होगा। स्वर्ण पाद का अष्टम राहु और द्वितीय केतु जीवन में प्रगति देगा। 29 मार्च 2020 की शाम 7 बजकर 8 मिनट जब वृहस्पति मकर राशि में आएंगे तब लाभ दिलाएंगे।

8/12वृश्चिक: धनार्जन के नए अवसर मिलेंगे

इस राशि के लोग शनि की साढ़ेसाती के अंतिम चरण को भोग रहे हैं। लिहाजा तकरीबन सवा सात वर्षों का कष्ट अब ढलान पर है। स्वर्ण पाद का यह द्वितीय शनि आर्थिक लाभ के साथ धनार्जन के नए अवसर देगा। 24 जनवरी 2020 की दोपहर 12 बजकर 4 मिनट पर जब शनि अपनी ही राशि मकर में आएंगे, तब इस राशि के लोग साढ़ेसाती से मुक्ति का जश्न मनाएंगे। लौह पाद का तीसरा शनि करियर को नया आसमान और जीवन को नई उड़ान देगा। राहु मिथुन व केतु धनु में रहेंगे। विधाता का संकेत है कि लौह पाद का आठवां राहु और दूसरा केतु परेशानी के बाद सुख देगा। 23 सितंबर 2020 के बाद राहु केतु एक बार फिर उलझन में डालेंगे। रजत पाद का सप्तम राहु और प्रथम केतु शासन और सत्ता से तनाव का कारक बन सकता है।

इस तरह करें गणेश-लक्ष्मी पूजन की तैयारी, पहले मंगा लें यह सामग्री

9/12धनु: खुशियों के दिन आरंभ हो जाएंगे

इस दिवाली पर देव गुरु वृहस्पति टेढ़ी चाल से अपने विरोधी बुध के साथ शत्रु मंगल की राशि वृश्चिक में होंगे। स्वर्ण पाद का द्वादश गुरु कर्ज और उलझन की स्थिति में डाल सकता है। लेकिन 5 नवंबर के बाद गुरु की स्थिति में बदलाव से जीवन में सुख दुख धूप छांव की तरह आएंगे। 29 मार्च 2020 जब गुरु मकर राशि में आएंगे तो आपके खुशियों के दिन आरंभ हो जाएंगे। स्वर्ण चरण का गुरु अपार धन देगा। आनेवाला वर्ष करियर में हसीन रंग भरेगा। शनि धनु राशि के लोगों को साढ़ेसाती के दूसरे चरण से ग्रसित कर रहा है। लौह पाद का प्रथम शनि आपकी बार-बार परीक्षा लेगा और धैर्य धारण करने वालों को अनुभवों की अद्भुत सौगात देगा। फिर भी मन में अकारण ही बेचैनी रहेगी और स्वास्थ्य प्रभावित होगा।

10/12मकर: आर्थिक स्थिति बेहतर होगी

सूर्य पुत्र शनि धनु राशि में विराजकर मकर राशि के लोगों को साढ़ेसाती के प्रथम चरण से ग्रसित कर रहे हैं। स्वर्ण पाद का द्वादश शनि आर्थिक परेशानी देगा, कर्ज की स्थिति का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन अपने अनुभव से लाभ उठा सकेंगे। यह शनि आपकी परीक्षा लेगा और धैर्य धारण करने वालों को अनोखे उपहार देगा। यह मन बेचैन कर देह में कष्ट के साथ कुछ लाभ के भी अवसर भी प्रदान करेगा। 24 जनवरी 2020 की दोपहर 12 बजकर 4 मिनट पर जब शनि अपनी ही राशि मकर में आएंगे, स्वर्ण पाद का प्रथम शनि शारीरिक कष्ट देगा। यह शनि शिक्षा और अनुभवों से भविष्य में सम्मान की पृष्ठभूमि बनाता है। राहु मिथुन व केतु धनु में रहेंगे। विधाता का संकेत है कि स्वर्ण पाद का छठा राहु और बारहवां केतु नयी उम्मीद जगाएंगे, आर्थिक पक्ष सबल बनाएंगे। 23 सितंबर 2020 को सुबह 8 बजकर 24 मिनट पर राहु वृष और केतु वृश्चिक में आएंगे, इससे नई चुनौतियां आएंगी। ताम्र पाद का पंचम राहु और एकादश केतु नई उम्मीद जगाएगा। आर्थिक स्थिति बेहतर होगी। वृहस्पति टेढ़ी चाल से वृश्चिक राशि में हैं। लौह पाद का एकादश गुरु आर्थिक पक्ष सबल बनाते हैं। 5 नवंबर 2019 की मध्य रात्रि में जब वृहस्पति अपनी ही राशि धनु में मार्गी होकर आएंगे ताम्र पाद का द्वादश गुरु करियर को पंख लगाकर जीवन को नया आकाश देगा। मार्च के बाद धन संपत्ति का प्रचुर लाभ मिलेगा।

11/12कुंभ: आर्थिक पक्ष सबल होगा

दीपों का पर्व कुंभ राशि वालों के लिए अपने आंचल में नए अवसर और लाभ लेकर आया है। नए विचारों और मित्रों के सहयोग से किसी लक्ष्य को पाने में सफल होंगे। जनवरी के अंत में जब शनि मकर में जाएंगे, इस राशि के लोग शनि की साढ़ेसाती के असर में आ जाएंगे। रजत पाद का द्वादश शनि आर्थिक मामलों में कुछ परेशानी देगा। राहु मिथुन व केतु धनु में रहेंगे। विधाता का संकेत है कि रजत पाद का पंचम राहु और एकादश केतु लाभ का मार्ग प्रशस्त करेगा और संतान पक्ष से उलझन देगा। सितंबर 2020 में जब राहु केतु की स्थिति बदलेगी तब आपका मनोबल ऊंचा होगा। आर्थिक पक्ष सबल होगा। इस बीच 2019 के अंत तक गुरु के शुभ प्रभाव से आपकी कोई चाहत पूरी होगी। 29 मार्च 2020 की शाम 7 बजकर 8 मिनट जब वृहस्पति फिर जब मकर में पधारेंगे, जीवन में कई उतार-चढाव आएंगे। विरोधी चारों खाने चित्त होंगे। कोई विशेष लाभ होगा।

12/12मीन: देश-विदेश की कर सकते हैं यात्रा

दिवाली मीन राशि वालों के लिए खुशियों की सौगात ला रही है। ताम्र पाद का नौवां गुरु विदेश से लाभ की स्थिति निर्मित करता है। लेकिन 3 नवंबर के बाद गुरु की स्थिति बदलने से दशम गुरु शासन और सत्ता से तनाव देगा। 29 मार्च 2020 की शाम 7 बजकर 8 मिनट जब वृहस्पति मकर राशि में आएंगे तब जीवन में ख़ुशियां लाएंगे। ताम्र चरण का एकादश गुरु धन-समृद्धि का अपार आनंद देगा। अभीष्ट की पूर्ति होगी। यह वर्ष करियर में हसीन रंग भरेगा। शनि, धनु में हैं। रजत पाद का दसवां शनि सतर्कता से लाभ देगा। 24 जनवरी 2020 की दोपहर 12 बजकर 4 मिनट पर जब शनि अपनी ही राशि मकर में आएंगे तब जीवन को उत्सव बनाएंगे। लौह पाद का एकादश शनि करियर में लाभ दिलाएगा। देश-विदेश की यात्रा कर सकते हैं। 23 सितम्बर 2020 को सुबह 8 बजकर 24 मिनट पर राहु वृष और केतु वृश्चिक में जाएंगे और जीवन को आनंदित करेंगे। स्वर्ण पाद का तीसरा राहु और नवां केतु जिंदगी कामयाबी दिलाएगा।

Articles You May Like

नौकरी दिलाने के नाम पर बुलाया और 6 लोगों ने मिलकर बनाया हवस का शिकार
Housefull 4 Box Office Collection Day 20: अक्षय कुमार की ‘हाउसफुल 4’ 200 करोड़ के करीब, किया इतना कलेक्शन
साप्ताहिक राशिफल 18 से 24 नवंबर: सूर्य के परिवर्तन से इन लोगों को मिलने जा रहा है उपहार
सरकार द्वार उठाए गए कदमों से इकॉनमी के कुछ क्षेत्रों में आई तेजी: टाटा स्टील सीईओ
कुछ ई-कॉमर्स कंपनियां बाजार बिगाड़ने वाली मूल्य नीति अपना रही हैं: गोयल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *