अमृतसर रेल हादसे में बड़ा खुलासा, पिछले साल नहीं हुआ था दशहरे का आयोजन, इस बार कांग्रेस नेता के बेटे ने किया था आयोजन

ताज़ातरीन

नई दिल्ली : पंजाब के अमृतसर (Amritsar) में जिस जगह रेल हादसा हुआ वहां पिछले साल दशहरे का आयोजन नहीं हुआ था. इस साल कांग्रेस पार्षद के बेटे ने कार्यक्रम का आयोजन किया था. पूरे मामले में कांग्रेस पार्षद के बेटे सौरभ मिठू मदान का नाम सामने आ रहा है. दूसरी तरफ, जहां आयोजन किया गया था (खाली जमीन) और रेलवे ट्रैक के बीच 5 फ़ुट ऊंची दीवार थी, लेकिन तमाम लोग ऊंचाई से बेहतर नज़ारा देखने के लिए दीवार और ट्रैक पर खड़े थे. इसी दौरान यह हादसा हुआ. जहां हादसा हुआ वह जगह जोड़ा फाटक से 400 फुट की दूरी पर है. आपको बता दें कि अमृतसर में शुक्रवार शाम को रावण दहन देखने के लिए रेल की पटरी पर खड़े लोगों के ऊपर ट्रेन चढ़ने से कम से कम 61 लोगों की मौत हो गई. ट्रेन जालंधर से अमृतसर आ रही थी तभी जोड़ा फाटक पर यह हादसा हुआ.

यह भी पढ़ें : अमृतसर में कैसे हुआ ट्रेन हादसा, जिसने ले ली 60 लोगों की जान – 10 बातें

मौके पर कम से कम 300 लोग मौजूद थे जो पटरियों के निकट एक मैदान में रावण दहन देख रहे थे. अमृतसर (Amritsar) के प्रथम उपमंडलीय मजिस्ट्रेट राजेश शर्मा ने बताया कि 50 शवों को बरामद किया गया है और कम से कम 50 घायलों को एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. गौरतलब है कि इस दुर्घटना के बाद लोगों ने पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर पर भी निशाना साधा. लोगों का कहना था कि नवजोत कौर कार्यक्रम की मुख्य अतिथि थीं, लेकिन हादसे की जानकारी होने के बावजूद वह घटनास्थल से चली गईं. हालांकि नवजोत कौर सिद्धू ने इस आरोप से इनकार किया है कि वे अमृतसर में रेल लाइन पर हुए हादसे के बाद घटनास्थल से चली गई थीं. नवजोत कौर ने कहा कि इस त्रासदीपूर्ण घटना को लेकर राजनीति की जाना शर्मनाक है. 

टिप्पणियां

यह भी पढ़ें : अमृतसर हादसा : नवजोत कौर ने घटनास्थल से चले जाने के आरोप को गलत ठहराया 

VIDEO: ट्रेन ने अमृतसर में इस तरह लोगों को कुचला

Products You May Like

Articles You May Like

आर्थिक राशिफल 18 अप्रैल: करियर और पैसों के मामलों में दिन कैसा रहेगा, जानें
MH CET MCA 2019: रिजल्ट घोषित, देखें वेबसाइट
तेजस्वी सूर्या बोले- कांग्रेस कर रही ‘डर्टी पॉलिटिक्स’
Good Friday: जानें क्यों मनाते हैं गुड फ्राइडे, क्या है इसके पीछे का इतिहास
Good Friday 2019: क्यों मनाया जाता है गुड फ्राइडे, जानिए इसका इतिहास और ईस्टर के बारे में सबकुछ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *