#MeToo: यौन उत्पीड़न के आरोपों में घिरे एमजे अकबर पर बढ़ा इस्तीफे का दबाव? NDTV से सरकारी सूत्रों ने कही यह बात

बड़ी ख़बर

नई दिल्ली: भारत में जारी ‘मी टू’ (#MeToo) अभियान ने ऐसी तूल पकड़ी कि इसकी जद में बड़े-बड़े नाम सामने आ रहे हैं.
#MeToo कैंपने के तहत पत्रकार रह चुके केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर (M J Akbar) भी यौन उत्पीड़न के आरोप लगे हैं. अपने समय के मशहूर संपादक व वर्तमान में केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एम.जे.अकबर पर कई महिला पत्रकारों ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं. जिसे लेकर मोदी सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई है और कांग्रेस एमजे अकबर के इस्तीफे की मांग कर रही है. हालांकि, सरकारी सूत्र इस मुद्दे पर खुद एमजे अकबर के बयान का इंतजार कर रहे हैं. मीडिया में ऐसी खबरें हैं कि सरकार पर इस्तीफे का दवाब बढ़ रहा है और सरकार एमजे अकबर से इस्तीफे की मांग कर सकती है. मगर सरकार के टॉप सूत्रों ने ऐसी खबरों को सिरे से खारिज किया है. सरकार के टॉप सूत्रों का कहना है कि एमजे अकबर के इस्तीफे को लेकर जितने भी खबरें हैं, सभी काल्पनिक हैं. 

#Metoo: एमजे अकबर पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों पर कांग्रेस नेता जयपाल रेड्डी बोले- सफाई दें या फिर इस्तीफा

सरकारी सूत्रों ने इस्तीफे की बात खारिज की:
नौ महिला पत्रकारों के साथ यौन दुर्व्यवहार के आरोपों से घिरे विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर पर इस्तीफ़े के दबाव की ख़बर को केंद्र सरकार के शीर्ष सूत्रों ने ख़ारिज कर दिया है.. NDTV से सूत्रों ने कहा कि ये महज़ अटकल है. विदेश दौरे से लौटने के बाद उनका पक्ष सुना जाएगा. उन्हें ख़ुद इस पर फ़ैसला लेना चाहिए. फ़िलहाल ऐसे कोई संकेत नहीं है कि उन्हें अपना दौरा छोटा कर जल्द भारत लौटने को कहा गया है. बता दें कि ऐसी खबरे हैं कि एमजे अकबर बीच में ही विदेश यात्रा से भारत लौट सकते हैं.

Blog- #MeToo की चिंगारी भड़की, कई जगह असर

कांग्रेस ने की अकबर के इस्तीफे की मांग:
इससे पहले कांग्रेस ने भी एमजे अकबर के मामले में न सिर्फ कांग्रेस ने मामले की जांच की मांग की है, बल्कि उनके इस्तीफे की भी मांग की है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयपाल रेड्डी ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि एमजे अकबर खुद आकर मामले पर सफाई दें या फिर इस्तीफा दें. उन्होंने कहा कि इस मामले की जांच होनी चाहिए. 

प्रियंका चतुर्वेदी ने सुषमा स्वराज की चुप्पी पर उठाए सवाल:
वहीं, कांग्रेस की प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने सुषमा स्वराज की चुप्पी पर भी सवाल उठाए. उन्होंने कहा कि आखिर अपने मंत्री पर सुषमा स्वराज चुप क्यों हैं? उदित राज पर कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है बीजेपी. बता दें कि अपने समय के मशहूर संपादक व वर्तमान में केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एम.जे.अकबर पर दो महिला पत्रकारों ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं. एक महिला पत्रकार द्वारा विदेश राज्य मंत्री एम.जे.अकबर पर आरोप लगाने के एक दिन बाद, उनकी एक और पूर्व सहयोगी  ने भी उन पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए.

BJP सांसद उदित राज ने #MeToo अभियान पर उठाए सवाल, कहा- महिलाएं पैसे के लिए लगाती हैं आरोप

सुषमा स्वराज ने क्या कहा:
इससे पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मंगलवार को पूछा गया था कि क्या उनकी सरकार केंद्रीय मंत्री के खिलाफ कोई कार्रवाई करेगी, लेकिन उन्होंने सवाल को टाल दिया था. देश में ‘मी टू’ अभियान तेज हो गया है, मनोरंजन और मीडिया जगत से जुड़ी कई महिलाओं ने यौन उत्पीड़न की आपबीती साझा की है. 

टिप्पणियां

महिला पत्रकारों ने लगाया है यौन उत्पीड़न के आरोप:
करीब 9 महिला पत्रकारों ने विस्तार से लिखा है कि किस तरह केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर ने संपादक रहते हुए अपने पद का बेजा इस्तेमाल करते हुए उनके साथ यौन दुर्व्यवहार किया. कुछ पत्रकारों ने बताया कि अकबर ने अपने केबिन में बुला कर कई बार उनके साथ दुर्व्यवहार किया. इसी तरह उनके होटलों में बुला कर पत्रकारों का नौकरी के लिए इंटरव्यू करना और उनसे अश्लील बातें करने के आरोप भी लगाए गए हैं.

VIDEO: प्राइम टाइम: एमजे अकबर पर सरकार की चुप्पी पर सवाल

Products You May Like

Articles You May Like

बॉल टैम्‍परिंग मामले में विराट कोहली ने स्‍टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर के प्रति यूं जताई सहानुभूति…
UPSC Recruitment 2018: यूपीएससी ने JS पद के लिए निजी सेक्टर के विशेषज्ञों को दोबारा आवेदन करने को कहा
पंचांग 9 दिसंबर 2018: राहुकाल सायं 4 बजकर 30 मिनट से 6 बजे तक
RPF Admit Card: SI/कॉन्स्टेबल के एडमिट कार्ड जारी
टैरो राशिफल 11 दिसंबर 2018: मंगलवार का दिन इन राशियों के लिए रहेगा मंगलकारी, व्यपार में होगा लाभ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *