विश्व बैंक, आईएमएफ ने कहा- नियमों के मुताबिक व्यापार करें अमेरिका और चीन

बिज़नेस

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप।

नुसा डुआ (इंडोनेशिया)

विश्व बैंक और अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) के प्रमुखों ने अमेरिका और चीन को सलाह दी है कि वे वैश्विक बाजार में नियमों के मुताबिक व्यापार करें। साथ ही उन्होंने चीन की प्रौद्योगिकी विकास रणनीति (टेक्नॉलजी डिवेलपमेंट स्ट्रैटिजी) को लेकर चल रहे विवाद को खत्म करने को भी कहा है। इसकी वजह से वैश्विक अर्थव्यवस्था को लंबे समय तक नुकसान होने का अंदेशा है।

आईएमएफ की प्रबंध निदेशक क्रिस्टीन लेगार्ड ने कहा कि अमेरिका और चीन को ठंडे दिमाग से विचार करने की सलाह देंगी। उन्होंने कहा कि वह दोनों देशों से कहेंगी कि वे दुनिया की व्यापार प्रणाली को दुरुस्त करने में मदद करें, उसे तोड़े नहीं। लेगार्ड और विश्व बैंक के अध्यक्ष जिम यॉन्ग किम ने आईएमएफ और विश्व बैंक की सालाना बैठक के मौके पर अलग-अलग बातचीत में अपने विचार रखे। यह बैठक इंडोनेशिया के बाली द्वीप में हो रही है।

इस आयोजन में दुनिया के कई देशों के वित्त मंत्री और केंद्रीय बैंक भाग ले रहे हैं। आयोजन स्थल पर कड़े सुरक्षा प्रबंध किए गए हैं। अमेरिका और चीन के बीच बढ़ते विवाद के बारे में पूछे जाने पर लेगार्ड ने कहा कि दोनों देशों ने एक दूसरे के निर्यात पर जो अतिरिक्त शुल्क लगाया है उससे अभी अधिक क्षति नहीं हुई है लेकिन इस बात का जोखिम बना हुआ है कि इससे अन्य देशों को नुकसान पहुंच सकता है।

लेगार्ड ने तीन सुझाव दिए- एक, विवाद को ठंडा करो, दूसरा, प्रणाली को दुरुस्त करो और तीसरा, इसे तोड़ो नहीं। उन्होंने कहा कि जिनेवा स्थित नियम बनाने वाले विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के पास अमेरिका की शिकायत को हल करने के तरीके हैं। अमेरिका की शिकायत है कि चीन की नीतियां अनुचित तरीके से आधुनिक टेक्नॉलजी जुटाने की है जिससे विदेशी कंपनियों को नुकसान होता है। हालांकि, इसके साथ ही उन्होंने कहा कि डब्ल्यूटीओ को सब्सिडी जैसे मुद्दों को हल करने के लिए काम करने की जरूरत है।

Products You May Like

Articles You May Like

BOB, देना बैंक और विजया बैंक का विलय अनावश्यक: AIBEA
इस अरबपति ने दान की अपनी पूरी संपत्ति, बेटी को करनी होगी इस चीज की देखभाल
भाजपा ने 2017-18 में 1027.34 करोड़ रुपये की आय घोषित की, 74 प्रतिशत खर्च की
UP BTC 2015 के 4th सेमेस्‍टर का रिजल्‍ट जारी, ऐसे करें चेक
अशोक गहलोत इन 5 कारणों से सचिन पायलट पर पड़े भारी, कांग्रेस को बनाना पड़ा मुख्यमंत्री

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *