कविता : तारे घबराते हैं

नन्ही दुनिया









डॉ. रूपेश जैन ‘राहत’

तारे घबराते हैं

शायद इसीलिये टिमटिमाते हैं
सूरज से डरते हैं
इसीलिये दिन में छिप जाते हैं।

चांद से शरमाते है
पर आकाश में निकल आते हैं
तारे घबराते हैं
शायद इसीलिये टिमटिमाते हैं।
लोग कहते हैं
अंतरिक्ष अनंत है
लेकिन मैंने देखा नहीं
मैं तो केवल इतना जानता हूं
सूरज बादल में छिप जाता है
चांद बादल में छिप जाता है
सो तारे जब डरते शरमाते होंगे
बादल में छिप जाते होंगे।
तारे घबराते हैं
शायद इसीलिये टिमटिमाते हैं।

Products You May Like

Articles You May Like

सितंबर के लिये जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि बढ़ी
विदुर नीतिः इसलिए अमीरों से ज्यादा स्वादिष्ट होता है गरीब लोगों का खाना
CBSE: बदले नियम, खुलेंगे 8000 नए स्कूल
फरीदाबाद खुदकुशी मामला: मौत को गले लगाने से पहले सुसाइड नोट में लिखीं ये बातें…
आर्थिक राशिफल 18 अक्टूबर: आज आपके हिस्से में लाभ है या हानि देखें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *