गुजरात में लगे नारे, कढ़ुआ भगाओ, देश बचाओ

देश

स्टेशन पर हालचाल लेते लोग

विकास पाठक, वाराणसी

गुजरात में हिंसक माहौल से यूपी-बिहार के मजदूरों का पलायन जारी है। वाराणसी के कैंट रेलवे स्‍टेशन पर बुधवार को पहुंची उधना एक्‍सप्रेस से सैकड़ों और मजदूर आए। गुजरात के हालात पूछते ही पहले तो वे बिफर पड़े। फिर बोले, स्थिति बेहद खराब है। शहर की अपेक्षा बाहरी इलाकों में दहशत ज्‍यादा है।

गुजरात के उधना जंक्‍शन से दानापुर तक जाने वाली उधना एक्‍सप्रेस पलायन करने वाले मजदूरों से खचाखच भरी रही। बुधवार सुबह 8.15 बजे इसके कैंट स्‍टेशन पहुंचने पर पूर्वांचल के करीब पांच सौ मजदूर उतरे। इनके चेहरों पर दहशत और जेहन में भविष्‍य को लेकर चिंता की लकीरें साफ दिखी। गुजरात में हिंसक माहौल से सबके सपने जलकर खाक हो गए। कांग्रेस के पूर्व विधायक अजय राय और कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने इनका दुख-दर्द जाना और ढांढस बंधाया। कहा कि वाराणसी के सांसद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक बात पहुंचा माहौल शांत कराया जाएगा।

10 साल से गुजरात में मूंगफली बेचने वाले बलिया के अशोक पांडेय ने बताया कि उन्‍होंने वहां अच्‍छे दोस्‍त बनाए और सबके सुख-दुख में साथ रहे, लेकिन एक घटना को लेकर निशाना बनाना हैरान करने वाला रहा। निर्माण संबंधी काम करने वाले बिहार के अवनीश कुमार ने बताया कि गुजरात के लोग ‘कढ़ुआ (यूपी वाले) भगाओ-देश बचाओ’ का नारा लगा रहे हैं। कोई भी जगह सुरक्षित न होने से जान बचाने के लिए घर लौटना पड़ा है।

बसों को रोक रहे

ट्रांसफार्मर बनाने वाली कंपनी के मजदूर बिहार के रामबाबू और पंकज कुमार ने बताया कि हालात बिगड़ने पर कुछ कंपनियों के लोग अपने यहां कार्यरत मजदूरों को बसों में भरकर बाहर भेज रहे हैं। इन बसों को जगह-जगह रोक लोगों को जबरन उतार दिया जा रहा है। अहमदाबाद में तो ऑटो वाले यूपी का पता चलने पर बैठाने से इनकार या फिर रास्‍ते में ही छोड़ दे रहे हैं। रेलवे स्‍टेशन तक पहुंचने के लिए पैदल चलना पड़ रहा।

बक्‍सर के श्‍याम कुमार, मुगलसराय के किशोर, अजीत को कुछ लोगों ने इतना डराया कि उन्‍होंने तुंरत गुजरात छोड़ देने में ही भलाई समझी। बोले, कल्‍पना नहीं की थी कि गुजरात छोड़ना पड़ेगा। इन्‍होंने बताया कि फैक्‍ट्री वालों ने मौके का फायदा उठाते हुए घर लौटने को तनख्‍वाह देने से इनकार कर दिया। थोड़े-बहुत जो पैसे थे वह बस-ट्रेन की टिकट में खत्‍म हो गए।

Products You May Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *