खुलासा : गुजरात दंगे रोकने के लिए पूरे दिन इंतजार करती रही सेना, राज्य सरकार ने देरी से किया ट्रकों का इंतजाम

ताज़ातरीन

नई दिल्ली : साल 2002 में गुजरात दंगों (2002 Gujarat riots) के दौरान हिंसा से निपटने के लिए बुलाई गई सेना की टुकड़ी का नेतृत्व करने वाले रिटायर्ड लेफ़्टिनेंट जनरल ज़मीरुद्दीन शाह (Lieutenant General Zameer Uddin Shah) ने चौंकाने वाला खुलासा किया है. अलीगढ़ मुस्लिम युनिवर्सिटी के कुलपति रहे ज़मीरुद्दीन शाह ने अपनी किताब ‘द सरकारी मुसलमान’ में लिखा है कि 2002 के गुजरात दंगों के दौरान अहमदाबाद पहुंची सेना को दंगा प्रभावित इलाक़ों में जाने के लिए पूरे एक दिन का इंतज़ार करना पड़ा, अगर उन्हें ट्रांसपोर्ट की सुविधा तुरंत मिल जाती तो सेना कुछ और जानें बचा पाती. ज़मीरुद्दीन शाह के मुताबिक 1 मार्च की सुबह 7 बजे सेना के 3000 जवान अहमदाबाद पहुंच गए, लेकिन राज्य सरकार से उन्हें समय पर ट्रांसपोर्ट और अन्य सुविधा नहीं मिल सकी.

यह भी पढ़ें : गोधरा दंगे में क्षतिग्रस्त धार्मिक स्थलों की मरम्मत मामले में सुप्रीम कोर्ट ने पलटा गुजरात हाईकोर्ट का फैसला

रिटायर्ड लेफ़्टिनेंट जनरल ज़मीरुद्दीन शाह ने अपनी किताब में लिखा है, 1 मार्च को देर रात 2 बजे मैं गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के घर पहुंचा. वहां तत्कालीन रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडीस को देखकर थोड़ी राहत मिली. वे दोनों लोग डिनर कर रहे थे और मुझे भी ऑफर किया. मैं डिनर कर तुरंत वहां से निकल आया. मेरे पास गुजरात का एक टूरिस्ट मैप था और उन जगहों की जानकारी जुटाई, जहां हालात ज्यादा खराब थे. मैंने अधिकारियों को उन सामान की लिस्ट भी दी, जिसकी सेना को तत्काल जरूरत थी. मैं वापस लौट आया और सुबह 7 बजे तक 3000 जवान पहुंच गए थे, लेकिन ट्रांसपोर्ट की कोई व्यवस्था नहीं थी. ऐसे वक्त में जब जवान कुछ जानें बचा सकते थे, मजबूरी में वे कुछ नहीं कर सके. अगले दिन हमें जरूरत की चीजें मिलीं. तब तक सड़क के रास्ते हमारे और जवान भी आ गए थे. 

यह भी पढ़ें : 2002 का गुजरात दंगा : नरेंद्र मोदी पर लगे थे ये आरोप

टिप्पणियां

स्मृति इरानी पर भी लगाए आरोप : 

ज़मीरुद्दीन शाह ने अपनी किताब में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी पर गंभीर आरोप लगाए हैं. उन्होंने लिखा है कि अलीगढ़ मुस्लिम युनिवर्सिटी का कुलपति रहते तत्कालीन मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने उन्हें  नीचा दिखाने की कोशिश की थी.  

VIDEO: गुजरात दंगों के दौरान देरी!, बचाई जा सकती थीं और जिंदगियां

Products You May Like

Articles You May Like

ऐपल प्रॉडक्ट्स पर 18,000 रुपये से ज्यादा तक की छूट
IND vs AUS, 2nd Test, Day 5: भारत पर मंडरा रहा है हार का खतरा, विहारी और पंत से चमत्कार की उम्मीद
शपथ से पहले NDTV से बोले कमलनाथ- दस दिनों से पहले ही माफ होगा किसानों का कर्ज
Asus ZenFone Max Pro M2, Xiaomi Redmi Note 6 Pro और Realme 2 Pro में कौन बेहतर?
बेटी की दवा के लिए पैसे मांगे तो पति ने दिया तीन तलाक, घर से भी निकाला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *