ब्रेट कावानाह अमेरिका के सुप्रीम कोर्ट के जज बने, 114वें न्यायाधीश के रूप में ली शपथ

दुनिया

वाशिंगटन : ब्रेट कावानाह (Brett Kavanaugh) ने अमेरिका के सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में शपथ ली है. 53 वर्षीय कावानाह की नियुक्ति की पुष्टि सीनेट में 50-48 मतों से हुई. कावानाह को शनिवार की शाम अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश जॉन रॉबर्ट्स ने शीर्ष अदालत के 114वें न्यायाधीश के रूप में शपथ दिलाई. न्यायमूर्ति रॉबर्ट्स ने कावानाह को न्यायाधीशों के कॉन्फ्रेंस कक्ष में संवैधानिक शपथ दिलाई. वहीं, एसोसिएट जस्टिस (सेवानिवृत्त) एंथनी एम. केनेडी ने उन्हें न्यायिक शपथ दिलाई. इस दौरान कावानाह की पत्नी एश्ले कावानाह ने हाथों में परिवार का बाइबल पकड़ा हुआ था. शपथ ग्रहण समारोह में न्यायमूर्ति कावानाह की दोनों बेटियां लीजा और मार्ग्रेट और उनके माता-पिता भी उपस्थित थे.

अमेरिका की धमकी के बाद भी भारत क्यों रूस से खरीदने जा रहा है दुनिया का सबसे खतरनाक हथियार

कावानाह सुप्रीम कोर्ट में न्यायमूर्ति केनेडी की जगह लेंगे जिन्होंने इसी वर्ष अपनी सेवानिवृत्ति की घोषणा की थी. सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में कावानाह के शपथ ग्रहण के साथ ही सत्तारूढ़ रिपब्लिकन और विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी के बीच कई सप्ताह से चल रही खींचतान पर भी विराम लग गया है. पिछले कुछ सप्ताह में कावानाह पर तीन महिलाओं द्वारा यौन शोषण के आरोप लगने के बाद उनकी नियुक्ति को लेकर मुश्किलें बढ़ गई थीं और दोनों दलों के बीच खींचतान भी बढ़ गई थी. वहीं, छह नवंबर को होने वाले मध्यावधि चुनावों के प्रचार के सिलसिले में कंसास में मौजूद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने नियुक्ति की पुष्टि और शपथ ग्रहण के बाद कावानाह को फोन पर बधाई दी.

दक्षिण चीन सागर में अमेरिका और चीन के युद्धपोत आमने-सामने आए

डोनाल्ड ट्रंप ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं उन्हें बधाई देता हूं. बहुत अच्छे से लड़ी गई लड़ाई. मेरे कहने का अर्थ है कि किसने सोचा था कि ऐसा कुछ होगा… उन्होंने क्या कुछ नहीं झेला? कावानाह को बेहतर इंसान बताते हुए ट्रंप ने आरोप लगाया कि विपक्षी डेमोक्रेटिक सांसदों के कारण हाल के सप्ताह में उनके परिवार को काफी कुछ झेलना पड़ा है. गौरतलब है कि अमेरिका के सुप्रीम कोर्ट में नौ सदस्य हैं जिनमें से दो… ब्रेट कावानाह और नील गोर्सच को ट्रंप ने नामित किया है. वहीं, पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने 2009 और 2010 में क्रमश: दो महिला न्यायाधीशों सोनिया सोटोमेयर और ऐलेना कगन को नामित किया था. 

टिप्पणियां

डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, इस वजह से अमेरिका के साथ ‘तुरंत’ व्यापार करार करना चाहता है भारत

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Products You May Like

Articles You May Like

जानिए आपके करियर के अनुसार, कौन सा रुद्राक्ष पहनने से होगा लाभ
वृषभ राशिफल 21 अक्टूबर 2018: मान प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी
दशहरे के दिन ऐसा हो जाए तो आने वाला साल आपका गुजरेगा शुभ
भारत की ब्रह्मोस मिसाइल से मुकाबले के लिए चीन से सुपरसोनिक खरीद सकता है पाकिस्तान
रजिस्टर्ड डीलर विरोध नहीं करे तो दुकान सील नहीं कर सकते GST अधिकारीः हाई कोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *