आदर्श वीरांगना झांसी की रानी लक्ष्मीबाई पर हिन्दी निबंध…

नन्ही दुनिया








प्रस्तावना : भारतीय वसुंधरा को गौरवान्वित करने वाली झांसी की रानी वीरांगना लक्ष्मीबाई वास्तविक अर्थ में आदर्श वीरांगना थीं। सच्चा वीर कभी आपत्तियों से नहीं घबराता है। प्रलोभन उसे कर्तव्य पालन से विमुख नहीं कर सकते। उसका लक्ष्य उदार और उच्च होता है। उसका चरित्र अनुकरणीय होता है। अपने पवित्र उद्देश्य की प्राप्ति के लिए वह सदैव आत्मविश्वासी, कर्तव्य परायण, स्वाभिमानी और धर्मनिष्ठ होता है। ऐसी ही थीं वीरांगना लक्ष्मीबाई। 

परिचय : महाका जन्म काशी में 19 नवंबर 1835 को हुआ। इनके पिता मोरोपंत ताम्बे चिकनाजी अप्पा के आश्रित थे। इनकी माता का नाम भागीरथी बाई था। महारानी के पितामह बलवंत राव के बाजीराव पेशवा की सेना में सेनानायक होने के कारण मोरोपंत पर भी पेशवा की कृपा रहने लगी। लक्ष्मीबाई अपने बाल्यकाल में मनुबाई के नाम से जानी जाती थीं। 
विवाह : इधर सन्‌ 1838 में गंगाधर राव को झांसी का राजा घोषित किया गया। वे विधुर थे। सन्‌ 1850 में मनुबाई से उनका विवाह हुआ। सन्‌ 1851 में उनको पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई। झांसी के कोने-कोने में आनंद की लहर प्रवाहित हुई, लेकिन चार माह पश्चात उस बालक का निधन हो गया। 
सारी झांसी शोक सागर में निमग्न हो गई। राजा गंगाधर राव को तो इतना गहरा धक्का पहुंचा कि वे फिर स्वस्थ न हो सके और 21 नवंबर 1853 को चल बसे। >
 
यद्यपि महाराजा का निधन महारानी के लिए असहनीय था, लेकिन फिर भी वे घबराई नहीं, उन्होंने विवेक नहीं खोया। राजा गंगाधर राव ने अपने जीवनकाल में ही अपने परिवार के बालक दामोदर राव को दत्तक पुत्र मानकर अंगरेजी सरकार को सूचना दे दी थी। परंतु ईस्ट इंडिया कंपनी की सरकार ने दत्तक पुत्र को अस्वीकार कर दिया। 

Products You May Like

Articles You May Like

एडिटर्स गिल्ड ने पूर्व केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर और तहलका के पूर्व संपादक तेजपाल की सदस्यता निलंबित की
Diamond से जुड़ी एयरप्लेन की तस्वीरें हो रही हैं वायरल, जानें क्या है सच्चाई
रामदास अठावले को युवक ने जड़ा थप्पड़, केंद्रीय मंत्री बोले- इस वजह से मुझे बनाया गया निशाना
Election Results 2018: विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद राहुल गांधी ने बताया कि उन्होंने PM मोदी से क्या सीखा
एशिया, दक्षिण पश्चिम एशिया में 2017 में एफडीआई प्रवाह छह प्रतिशत घटा : संयुक्त राष्ट्र रपट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *