भगत सिंह के 7 शेर, इन्हें सुनकर कोई भी वतन पर मर मिटे…

नन्ही दुनिया








के लिए मर मिटने वाले देशभक्तों में का नाम भुलाया नहीं जा सकता। देश के प्रति उनका प्रेम, दीवानगी और मर मिटने का भाव, उनके शेर-ओ-शायरी और कविताओं में साफ दिखाई देता है, जो आज भी युवाओं में आज भी भरने का काम करता है। पढ़ें भगत सिंह के पर लिखे यह 7 शेर – 

सीनें में जुनूं, आंखों में देशभक्ति की चमक रखता हूं
दुश्मन की सांसें थम जाए, आवाज में वो धमक रखता हूं  
लिख रहा हूं मैं अंजाम, जिसका कल आगाज आएगा
मेरे लहू का हर एक कतरा,  इंकलाब लाएगा
मैं रहूं या न रहूं पर, ये वादा है मेरा तुझसे 
मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आएगा 
मुझे तन चाहिए, ना धन चाहिए
बस अमन से भरा यह वतन चाहिए
जब तक जिंदा रहूं, इस मातृ-भूमि के लिए
और जब मरूं तो तिरंगा ही चाहिए
कभी वतन के लिए सोच के देख लेना,
कभी मां के चरण चूम के देख लेना,
कितना मजा आता है मरने में यारों,
कभी मुल्क के लिए मर के देख लेना,
हम अपने खून से लिक्खें कहानी ऐ वतन मेरे
करें कुर्बान हंस कर ये जवानी ऐ वतन मेरे
मैं भारतवर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूं
यहां की चांदनी, मिट्टी का ही गुणगान करता हूं 
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की
तिरंगा हो कफन मेरा, बस यही अरमान रखता हूं
जमाने भर में मिलते हैं आशिक कई,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता,
नोटों में भी लिपट कर,
सोने में सिमटकर मरे हैं शासक कई, 
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफन नहीं होता

Products You May Like

Articles You May Like

नोकिया 8.1 में है कितना दम? पढ़ें क्विक रिव्यू
Xiaomi के 48 मेगापिक्सल कैमरे वाले स्मार्टफोन के डिस्प्ले में होगा छेद
मोदी सरकार दिल्ली की कच्ची कालोनियों को तोड़ना चाहती है : केजरीवाल  
वाराणसी : सरकार कर रही पर्यटकों को आकर्षित, नाविक कर रहे हड़ताल
भारत में 2022 तक आ सकता है 5जी: ट्राई सचिव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *