स्नान भी बना सकता है सेहतमंद और धनवान, उपाय है बहुत आसान

राशि


ग्रहों की स्थिति का आपके जीवन पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है। अगर यह अनुकूल होते हैं तो आपके जीवन में सब कुछ अच्‍छा चलता है। ग्रहों की दशा बदलने पर व्‍यक्ति को अमीर से गरीब और राजा से रंक बनने में देर नहीं लगती। आज हम आपको बता रहे हैं औषधि स्‍नान के माध्‍यम से 9 ग्रहों के दुष्‍प्रभाव को कम करने के उपाय…

1/9सूर्य के दुष्‍प्रभाव को कम करने के लिए

इलाइची, केसर एपवं गुलहठी, लाल रंग के फूल मिश्रित जल द्वारा स्‍नान करने से सूर्य के दुष्‍प्रभाव कम होते हैं।

2/9चंद्र की पीड़ा के निवारण के लिए

सफेद चंदन, सफेद फूल, सीप, शंख और गुलाब जल मिश्रित पानी से नहाने से आपकी राशि पर चंद्र के दुष्‍प्रभाव कम होते हैं।

3/9ऐसे दूर कर सकते हैं मंगल की पीड़ा

लाल चंदन, लाल फूल, बेल वृक्ष की छाल, जटामांसी, हींग मिश्रित जल से नहाने से मंगल ग्रह के दुष्‍परिणों को भी कम किया जा सकता है।

4/9बुध की कृपा ऐसे कर सकते हैं प्राप्‍त

अगर आप चाहते हैं कि आप पर बुध की कृपा दृष्टि बनी रहे तो आपको अपने स्‍नान के जल में अक्षत, जायफल, गाय का गोबर मिश्रित करके स्‍नान करना होगा।

5/9गुरु के दुष्‍प्रभाव ऐसे करें दूर

सफेद सरसों, दमयंती, गूलर और चमेली के फूल मिलाकर स्‍नान करने से आप पर गुरु के दुष्‍प्रभावों का असर बहुत कम होता है।

6/9शुक्र को ऐसे कर सकते हैं प्रसन्‍न

शुक्र को आपके वैवाहिक जीवन का कारक माना गया है। शुक्र को खुश रखने से आपका वैवाहिक जीवन सदैव खुशहाल रहता है। इसके लिए बस आपको अपने स्‍नान के जल में जायफल, मैनसिल, केसर, इलाइची और मूली के बीज मिलाकर नहाना होगा। ऐसा करने से शुक्र ग्रह के दुष्‍प्रभाव दूर हो सकते हैं।

7/9शनि ग्रह के प्रकोप से ऐसे बचें

शनि को न्‍याय के देवता का सम्‍मान प्राप्‍त है। यह व्‍यक्ति को उसके कर्म के अनुरूप परिणाम देते हैं। अत: हमको अपने कर्म तो दुरुस्‍त रखने ही चाहिए साथ ही कुछ विशेष चीजों को स्‍नान के जल में मिलाकर नहाने से आप शनि के दुष्‍प्रभावों से दूर रह सकते हैं। इन चीजों में सरसों, काले तिल, सौंफ, लोबान, सुरमा, काजल आदि शामिल हैं।

8/9राहु की पीड़ा ऐसे कर सकते है दूर

इसके लिए आप स्‍नान औषधि के रूप में लोबान, कस्‍तूरी, गजदंत आदि सामग्री से मिश्रित जल से स्‍नान करके राहु की पीड़ा को दूर कर सकते हैं।

9/9केतु की पीड़ा ऐसे करें दूर

लाल चंदन और छाग मूत्र मिश्रित जल से स्‍नान करके आप केतु के दुष्‍प्रभावों को अपने आप खत्‍म कर देंगे।

Products You May Like

Articles You May Like

चाणक्य नीतिः जानें क्यों काम-वासना है सबसे बड़ा रोग
आर्थिक राशिफल 23 सितंबर: धन और करियर के मामले दिन कैसा रहेगा जानिए
Oppo A7 के सभी स्पेसिफिकेशन्स ऑनलाइन लीक, जानें खूबियां
आरक्षण जारी रहना चाहिए, भारत में कोई पराया नहीं : मोहन भागवत
एसबीआई को नवंबर तक 7-8 दबाव वाली बिजली कंपनियों के कर्ज निपटान की उम्मीद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *