युद्ध क्षमता बढ़ाने के लिये चीन ने सैनिकों की प्रशिक्षण अवधि 6 महीने तक के लिए बढ़ाई

दुनिया

नई दिल्ली: चीन की सेना ने भर्ती होने वाले नये सैनिकों के प्रशिक्षण की अवधि को तीन महीने से बढ़ाकर छह महीने कर दिया है, ताकि उनके युद्ध की क्षमता में सुधार किया जा सके. यह खबर सरकारी मीडिया ने शुक्रवार को दी. ग्लोबल टाइम्स ने पीएलए के हवाले से बताया कि नये सैनिकों को विभिन्न कंपनियां आवंटित करने से पहले पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) उनको पेशेवर प्रशिक्षण देगी. गौरतलब है कि पीएलए दुनिया की सबसे बड़ी सेना है जिसमें 20 लाख सैनिक हैं.   एक अधिकारी ने कहा, ‘‘नये सैनिकों का प्रशिक्षण अब और प्रभावी होगा तथा प्रशिक्षित सैनिक के स्तर का पूरी तरह प्रशिक्षण होने के बाद ही उन्हें युद्धक इकाइयां आवंटित की जाएंगी.’’

पीएलए ने डोकलाम के बाद पठार क्षेत्र में सैन्य अभ्यास तेज किए – मीडिया रिपोर्ट

Advertisement

गौरतलब है कि चीन और भारत की सेनाएं डोकलाम के मुद्दे पर कई दिनों तक आमने-सामने रही हैं. हालांकि बाद में बातचीत के जरिये दोनों देशों ने इस मुद्दे को सुलझा लिया था. चीन के मामलों के जानकार कहते हैं कि चीन अपनी सेना के जरिये पड़ोसी देशों पर मनोवैज्ञानिक दबाव बनाने की कोशिश करता रहता है. डोकलाम के मुद्दे पर भी चीनी सेना के प्रवक्ता भारत को देख लेने की धमकी देते रहे ताकि मनोवैतज्ञानिक दबाव बनाकर डोकलाम से भारत को पीछे धकेलना जा सके. लेकिन तत्कालीन रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने साफ कहा था कि यह 1962 का भारत नहीं है.     

टिप्पणियां

क्षेत्रीय युद्ध के लिए तैयार रहे सेना : शी चिनफिंग​

इनपुट : भाषा

Products You May Like

Articles You May Like

Daughter’s Day पर नील नितिन मुकेश ने दिखाई बेटी की पहली झलक, जानिए आखिर क्या है ‘नूरवी’ का मतलब
अलीबाबा का रोबोट होटलों में परोसेगा खाना
5जी स्पेक्ट्रम के लिये नीलामी 2019 की दूसरी छमाही में संभव: दूरसंचार सचिव
भाग्यश्री के बेटे ने डेब्यू फिल्म से मचाया तहलका, इस इंटरनेशनल फेस्टिवल में ‘मर्द को दर्द..’ की धूम
मंगल ग्रह का चक्कर काट रहे नासा के विमान ने भेजी सेल्फी, 4 साल किए पूरे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *