मृत्यु से नहीं बच सके भगवान, जानें कैसे गए वापस अपने धाम

राशि


मृत्‍यु एक शाश्‍वत सत्‍य है। जिस व्‍यक्ति ने जन्‍म लिया है उसे मृत्‍यु को प्राप्‍त करना है। मनुष्‍य तो मनुष्‍य भगवान भी इससे बच नहीं सके। आखिरकार उन्‍हें भी एक दिन अपने धाम वापस लौटना पड़ा। भगवान राम हों या कृष्‍ण सभी को अपना समय पूरा होने के बाद इस नश्‍वर शरीर को त्‍यागना पड़ा। आइए जानते हैं मनुष्‍य को जीवन देने वाले भगवान को कैसे मिली मृत्‍यु…

1/7लक्ष्‍मण के जीवन का ऐसे हुआ अंत

लक्ष्‍मण जो कि अपने भ्राता राम के बिना एक क्षण भी नहीं रहते थे, उन्‍हें भी अपनी देह को त्‍यागना पड़ा। एक दिन भगवान राम से मिलने एक संत आए और उनसे अकेले में चर्चा करने के लिए कहने लगे। ये संत कोई और नहीं विष्‍णु लोक से भेजे गए कालदेव थे तो जो भगवान राम को यह बताने आए थे कि उनका जीवन अब धरती पर समाप्‍त हो गया है। दोनों एक कक्ष में चर्चा करने चले गए और लक्ष्‍मण को द्वारपाल के रूप में खड़ा किया कि कोई भी अंदर न आने पाए। कोई आया तो लक्ष्‍मण को मृत्‍युदंड मिलेगा।

2/7दुर्वासा ऋषि पधारे

भगवान राम संत से चर्चा कर ही रहे थे दुर्वासा ऋषि अचानक से वहां आकर राम से मिलने की जिद करने लगे। लक्ष्‍मण के लाख मना करने पर भी व‍ह अपनी जिद पर अड़े रहे और न मिलने देने पर राम को शाप देने की बात कहने लगे। तब लक्ष्‍मण ने अहम फैसला लिया। वह नहीं चाहते थे कि राम को कोई शाप मिले इसलिए उन्‍होंने अपनी जान की परवाह किए बगैर दुर्वासा ऋषि को राम से मिलने जाने दिया। ऐसा होने पर राम ने लक्ष्‍मण को राज्‍य और देश से बाहर चले जाने को कहा। उस युग में देश से निकाला जाना भी मृत्‍यु के बराबर ही माना जाता थ। लक्ष्‍मण सरयू नदी के भीतर चले गए और अपना शरीर त्‍यागकर शेषनाग का अवतार ले लिया। फिर वह विष्‍णु लोक चले गए। इस प्रकार लक्ष्‍मण का अंत हो गया।

3/7राम भी नहीं रह सके लक्ष्‍मण के बिना

भगवान राम भी अपने भाई के बिना नहीं रह सकते थे। वह भी अपना राजपाट अपने पुत्रों को सौंपकर सरयू नदी में समा गए। फिर कुछ देर बार नदी से भगवान विष्‍णु प्रकट हुए और अपने भक्‍तों को दर्शन दिए। इस प्रकार राम ने भी अपने शरीर को त्‍यागकर विष्‍णु का रूप धारण किया और वैकुंठ धाम की ओर प्रस्‍थान किया।

4/7ऐसे हुई भगवान कृष्‍ण की मृत्‍यु

महाभारत के युद्ध के बाद जब दुर्योधन का अंत हुआ तो उसकी मां गांधारी विलाप करने रणभूमि में पहुंची। गांधारी अपने पुत्र की मृत्‍यु का कारण पांडवों और भगवान कृष्‍ण को समझती थी। क्रोध में आकर उन्‍होंने भगवान कृष्‍ण को 36 वर्षों के बाद मृत्‍यु का शाप दे दिया। ठीक 36 वर्षों के बाद उनका अंत एक शिकारी के हाथों से हुआ।

5/7बलराम ने ऐसे किया शरीर का त्‍याग

बलरामजी ने समुद्र तट पर बैठका एकाग्र‍-चित्‍त से परमात्‍मा का चिंतन करते हुए अपनी आत्‍मा को आत्‍मस्‍वरूप में ही स्थिर कर लिया और मनुष्‍य का शरीर त्‍याग दिया।

6/7नरसिंह का अंत करने को शिव ने लिया अवतार

हिरणाकश्यप का अंत करने के बाद नरसिंह भगवान के क्रोध को कोई भी शांत नहीं कर पा रहा था। तभी सब देवतागण भगवान शिव की शरण में पहुंचे और नरसिंह के क्रोध को शांत करने की बात कहने लगे। नरसिंह के क्रोध को शांत करने के लिए शिव को भगवान सरबेश्वर का अवतार लेना पड़ा। दोनों के बीच 18 दिन तक युद्ध चला और फिर 18वें दिन नरसिंह भगवान ने थककर स्‍वयं ही प्राण त्‍याग दिए।

7/7बने भगवान शिव का आसन

नरसिंह ने अपने प्राण त्‍यागकर भगवान शिव से यह प्रार्थन की, कि वह उनकी चर्म को अपने आसन के रूप में स्‍वीकार कर लें। तब सरबेश्वर भगवान ने यह कहा कि उनका अवतरण केवल नरसिंह देव के कोप को शांत करने के लिए हुआ था। उन्होंने यह भी कहा कि नरसिंह और सरबेश्वर एक ही हैं। इसलिए उन दोनों को एक-दूसरे से अलग नहीं किया जा सकता।अपने प्राण त्यागने के बाद नरसिंह भगवान विष्णु के तेज में शामिल हो गए और शिव ने उनकी चर्म को अपना आसन बना लिया। इस तरह भगवान नरसिंह की दिव्य लीला का समापन हुआ।

Products You May Like

Articles You May Like

ओडिशा में PM मोदी ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- तालचेर प्लांट अब हमारी सरकार की सफलता का प्रतीक बनेगा
DU: जानें, कब होंगे एमफिल-पीएचडी इंटरव्यू
RRB Recruitment 2018: रेलवे में नौकरी का एक और मौका, आवेदन की आखिरी तारीख नजदीक
मंगल ग्रह का चक्कर काट रहे नासा के विमान ने भेजी सेल्फी, 4 साल किए पूरे
पीएम नरेंद्र मोदी पर की गई टिप्पणी को लेकर राहुल गांधी पर बरसीं स्मृति ईरानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *