मध्यप्रदेश : पहली बार सैयदना की खिदमत में किसी पीएम की हाजिरी, नजर अगले चुनाव पर

ताज़ातरीन

इंदौर: दाऊदी बोहरा समुदाय के मौजूदा सर्वोच्च धर्मगुरु सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन मोहर्रम के मौके पर ‘वाज़’ यानी प्रवचन देने, मध्यप्रदेश के इंदौर आए हैं. राज्य सरकार ने सैयदना को राजकीय अतिथि का दर्जा दिया है. सैयदना से मिलने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी पहुंचे. प्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री के इस कदम को राजनीति से जोड़कर भी देखा जा रहा है.

कांग्रेस की कोशिश अपने अध्यक्ष राहुल गांधी को भी इस मंच पर लाने की है. वैसे आज इंदौर में कांग्रेसियों ने मोदी को काले झंडे दिखाने की पुरजोर कोशिश की.
     
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इंदौर पहुंचे, गाड़ी में जूते उतारे मस्जिद में जाने से पहले वजू किया. सैयदना ने भी वाज़ रोका और प्रधानमंत्री को गले लगाया. मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री दोनों सैयदना के बगल में कुर्सी पर बैठे. फिर प्रधानमंत्री ने कहा ‘अशरा मुबारक के इस पवित्र अवसर पर भी आपने मुझे यहां आने का मौका दिया, इसके लिए बहुत आभार. मुझे बताया गया है कि टेक्नालॉजी के माध्यम से देश और दुनिया के अलग-अलग सेंटर्स से भी समाज के लोग जुड़े हैं, आप सभी का भी मैं अभिनंदन करता हूं.’
           
हज़रत इमाम हुसैन की शहादत की याद में दाऊदी बोहरा समुदाय द्वारा आयोजित अशर-ए-मुबारका कार्यक्रम में पीएम मोदी के साथ मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी शामिल हुए. इस अवसर पर शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि पीएम मोदी लगातार, बिना रुके देश की तरक्की के लिए काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि बोहरा समाज ने महिलाओं-बच्चों के लिए बहुत काम किया है. शिवराज सिंह ने कहा कि दाऊदी बोहरा समाज अपनों से प्यार और दूसरों की मदद करने में आगे है.

यह भी पढ़ें :  पीएम मोदी ने इस अभियान में शिरकत करने के लिए अमिताभ, शाहरुख सहित कई सितारों को पत्र लिखा  
    
बोहरा’ दरअसल गुजराती शब्द ‘वहौराउ’ यानी ‘व्यापार’ का अपभ्रंश है. यह समुदाय मुस्ताली मत का हिस्सा है, जो 11वीं शताब्दी में उत्तरी मिस्र से धर्म प्रचारकों के माध्यम से भारत में आया था. फिलहाल देश में बोहरा समुदाय की कुल आबादी लगभग 20 लाख है, जो ज्यादातर कारोबारी हैं.

Advertisement

बोहरा समुदाय की बड़ी आबादी गुजरात में रहती है इसलिए प्रधानमंत्री ने अपने उद्बोधन में कहा ‘बोहरा समाज के साथ मेरा भी रिश्ता बहुत ही पुराना है. मेरा सौभाग्य है कि आपका स्नेह मुझ पर हमेशा रहा. गुजरात का शायद ही कोई गांव हो जहां बोहरा व्यापारी नहीं मिलता हो. मैं जब मुख्यमंत्री था तब कदम-कदम पर बोहरा समाज ने साथ दिया. आपका यही अपनापन मुझे आज यहां खींच लाया है. चूंकि बोहरा बड़े कारोबारी भी हैं, इसलिए प्रधानमंत्री ने कहा देश का व्यापारी और कारोबारी अर्थव्यवस्था की रीढ़ है. वो देश में रोजगार पैदा करने वाली महत्वपूर्ण इकाई है. उसको जितना प्रोत्साहन संभव है, दिया जा रहा है. लेकिन ये भी सच है कि पांचों उंगलियां एक समान नहीं होतीं. हमारे बीच से ही ऐसे लोग निकलते हैं जो छल को ही कारोबार मानते हैं.’

यह भी पढ़ें :  जानिए कौन हैं बोहरा मुसलमान, जिनके कार्यक्रम में पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी    
    
मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनावों से पहले इस मुलाकात के सियासी मायने भी हैं, वैसे वोटों के लिहाज़ से मध्यप्रदेश में बोहरा समुदाय की प्रभावी मौजूदगी महज़ तीन शहरों- इंदौर, उज्जैन और बुरहानपुर में ही है, लेकिन बीजेपी और कांग्रेस के लिए बोहरा समुदाय की अहमियत उनके वोटों से ज़्यादा सैयदना से मिलने वाले चुनावी चंदे की है. हालांकि खास ये है कि पहली बार किसी प्रधानमंत्री ने सैयदना की खिदमत में इस तरह हाज़िरी लगाई है.

टिप्पणियां

इस मौके पर मोदी सरकारी योजनाओं के जिक्र से भी नहीं चूके. उन्होंने कहा कि स्वच्छता भारत अभियान शुरू भले ही सरकार ने किया हो, लेकिन आज इस अभियान को देश की 125 करोड़ जनता चला रही है. गांव-गांव, गली-गली में स्वच्छता के प्रति एक अभूतपूर्व आग्रह पैदा हुआ है. चार वर्ष पहले तक जहां देश के 40% घरों में ही टॉयलेट थे आज ये दायरा 90% से भी अधिक हो गया है.
      
इंदौर की तारीफ में मोदी ने कहा आज हम जिस इंदौर शहर में जुटे हैं, ये तो स्वच्छता के इस आंदोलन का अगुवा है. इंदौर निरंतर स्वच्छता के पैमाने पर देशभर में नंबर वन रहा है. इंदौर ही नहीं भोपाल ने भी इस बार कमाल किया है. एक प्रकार से पूरे मध्यप्रदेश के मेरे युवा साथी, एक-एक जन इस आंदोलन को गति दे रहे हैं.
    
VIDEO : ‘बोहरा समुदाय से रिश्ता पुराना’

हालांकि मंच पर इस स्वागत सत्कार से इतर दूसरी तस्वीर इंदौर के राजवाड़ा से आई जहां कांग्रेस कार्यकर्ता मोदी वापस जाओ के नारे लगाकर उन्हें कालेझंडे दिखाना चाहते थे. हालांकि पुलिस ने उन्हें खदेड़ दिया.

Products You May Like

Articles You May Like

चाणक्य नीति : ऐसे पति-पत्नी और रिश्तों का त्याग कर देना चाहिए
Motorola One Power आ रहा है भारत, 24 सितंबर को उठेगा पर्दा
धनु राशिफल 24 सितंबर 2018: आज भाग्यवृद्धि का योग है
जानें, खुद गुदगुदी करने पर क्यों नहीं आती हंसी
आपके पास ही है जीवन का अंधेरा दूर करने का उपाय, ऐसे पहचानें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *