भगोड़े विजय माल्या को लेकर बीजेपी-कांग्रेस में मची तू-तू, मैं-मैं के बीच अब स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की सफाई

ताज़ातरीन

नई दिल्ली: भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने शुक्रवार को कहा कि भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या की बंद हो चुकी विमानन कंपनी किंगफिशर एयरलाइंस के कर्ज अदायगी में असफल रहने के मामले से निपटने में उसकी ओर से कोई कमी नहीं छोड़ी गयी. एसबीआई का यह बयान ऐसे समय में आया है जब ऐसी खबरें सामने आयी हैं कि उसे माल्या को देश से भागने से रोकने के लिए फरवरी 2016 में सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने का सुझाव दिया गया था. लेकिन बैंक माल्या के भाग जाने के बाद कोर्ट गया था. माल्या दो मार्च 2016 को देश से भाग गया था जबकि बैंकों के समूह ने इसके चार दिन बाद सुप्रीम कोर्ट अपील की थी कि माल्या को देश से भागने से रोका जाए.     

वित्त मंत्री ने सीबीआई, एसएफआईओ, ईडी को क्यों नहीं बताया कि माल्या लंदन जा रहा है : कांग्रेस

Advertisement

टिप्पणियां


बैंक ने बयान में कहा, ‘‘एसबीआई इस बात से इन्कार करता है कि किंगफिशर एयरलाइंस समेत कर्ज अदायगी नहीं होने के मामलों में उसकी या उसके अधिकारियों की तरफ से कोई कोताही बरती गयी. बैंक ने फंसे पैसों की वसूली के लिए पूरी सक्रियता से व कठोर कदम उठाये हैं.’’ गौरतलब है कि माल्या पर किंगफिशर एयरलाइन पर 17 बैंकों के गठबंधन 9000 करोड़ रुपए से अधिक के कर्ज न चुकाने और कर्ज के पैसे के साथ हेराफेरी के मामले में कानूनी कार्रवाई चल रही है. वह इस समय लंदन में है और उसको भारत लाने की कानूनी कार्रवाई चल रही है.
मिशन 2019: हंगामा है क्यों बरपा?​

 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Products You May Like

Articles You May Like

जेट एयरवेज के कर्मचारी बोले- मानसिक स्थिति सही नहीं, रिस्क पर उड़ रही उड़ान, 3 महीने से पगार नहीं, सुरेश प्रभु ने बुलाई बैठक
अक्षरा सिंह ने भोजपुरी सॉन्ग ‘होली हम नाहीं खेलब…’ से मचाया धमाल, खूब देखा जा रहा Video
अनिल अंबानी ने भाई मुकेश की मदद से चुकाया एरिक्सन का बकाया, मदद के लिए भइया-भाभी को कहा-थैंक्स
News Flash : तीन राज्यों के बीजेपी उम्मीदवारों की पहली लिस्ट आज आएगी
मध्यप्रदेश में बैंड बाजा रोजगार : ड्राइविंग सीखना चाहने वालों को सिलाई-कढ़ाई की ट्रेनिंग!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *