बतौर इंजीनियर डे सर एम. विश्वेश्वरैया को समर्पित है 15 सितंबर

नन्ही दुनिया








भारत में प्रतिवर्ष को इंजीनियर डे मनाया जाता है। इस दिन को महान इंजीनियर एम. विश्वेश्वरैया को समर्पित किया गया है और उन्हीं की याद में इस दिन को के तौर पर मनाया जाता है।

सर एम. विश्वेश्वरैया एक बेहतरीन इंजीनियर थे और उन्होंने कई महत्वपूर्ण कार्यों जैसे नदियों के बांध, ब्रिज और पीने के पानी की स्कीम आदि‍ को कामयाब बनाने में अविस्‍मरणीय योगदान दिया है। उनके इंजीनियरिंग के क्षेत्र में विशेष योगदान को सम्मानित करने के लिए उन्हें में ‘भारत रत्न’ से भी नवाजा गया है।
डे मनाने का उद्देश्‍य है भारत में विद्यार्थियों को इस क्षेत्र में आने के लिए प्रेरित करना। इंजीनियर देश को समृद्ध और विकसित बनाने में अति महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। भारत इंजीनियरिंग व आईटी के क्षेत्र में दुनिया का अग्रणी देश है। इंजीनियरिंग एक विस्तृत क्षेत्र है और अब तो भारत में कई विषयों में इंजीनियरिंग की पढ़ाई करवाई जाती है।
आइए, जानते हैं सर एम. विश्वेश्वरैया के बारे में कुछ खास बातें :
1. 15 सितंबर को सर एम. विश्वेश्वरैया का जन्म में हुआ था।
2. उनके प्रयासों से ही कृष्णराज सागर बांध, भद्रावती आयरन एंड स्टील वर्क्स, मैसूर संदल आइल एंड सोप फैक्टरी, मैसूर विश्‍वविद्यालय, बैंक ऑफ मैसूर का निर्माण हो पाया।
3. मैसूर में लड़कियों के लिए अलग से हॉस्टल और पहला फर्स्ट ग्रेड कॉलेज (महारानी कॉलेज) खुलवाने का श्रेय भी उन्हीं को जाता है।
4. एशिया के बेस्ट प्लान्ड लेआउट्स में एक जयानगर है जो कि बेंगलुरु में स्थित है। इसकी पूरी डिजाइन और योजना बनाने का श्रेय सर एम. विश्वेश्वरैया को ही जाता है।

Products You May Like

Articles You May Like

क्रिकेटर श्रीसंत ने दी ‘बिग बॉस’ छोड़ने की धमकी, और फिर हुआ कुछ ऐसा…देखें Video
Xiaomi Mi 5 को मिला MIUI 10 ग्लोबल स्टेबल रॉम अपडेट
तंजानिया में नाव डूबने से 131 लोगों की मौत, प्रबंधन से जुड़े लोगों की गिरफ्तारी के आदेश
गुजरात में 10 दिनों में 12 शेरों की मौत
महाराष्ट्र-छत्तीसगढ़ बॉर्डर के पास पुलिस और नक्सलियों में मुठभेड़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *