गौतम बुद्ध ने राजा से इस तरह बचाया एक पशु, हुए शर्मिंदा

राशि


31699-8-teachings-of-lord-buddha-which-make-your-life-easy.jpg

संकलन: मुकेश शर्मा
एक बार मगध का राजा अजातशत्रु कई मुश्किलों से घिर गया था। बहुत प्रयास करने के बाद भी जब उसे कोई उपाय नहीं सूझा तो उसकी चिंता बहुत बढ़ गई। उन्हीं दिनों एक तांत्रिक से उसकी मुलाकात हुई। राजा ने तांत्रिक को चिंता का कारण बताया। तांत्रिक ने राजा को मुसीबतों से मुक्ति पाने के लिए पशु बलि देने का उपाय बताया। राजा ने तांत्रिक की बात पर भरोसा करते हुए पशुओं की बलि देने का मन बना लिया।

इसके लिए एक बड़ा अनुष्ठान किया गया और बलि के लिए एक भैंसे को बांधकर मैदान में खड़ा कर दिया गया। संयोगवश गौतम बुद्ध राजा अजातशत्रु के नगर में पहुंचे। बुद्ध ने देखा कि एक मूक पशु की गर्दन पर मौत की तलवार लटक रही है तो उनका मन करुणा से भर आया। वह अजातशत्रु के पास पहुंचे और उन्होंने एक तिनका उसके हाथ में थमाते हुए कहा- राजन, मुझे इसे तोड़कर दिखाएं। राजा ने तिनके के दो टुकड़े करके गौतम बुद्ध को दे दिए। गौतम बुद्ध ने टूटे तिनके को फिर से राजा को देते हुए कहा कि अब इन दोनों टुकड़ों को जोड़कर दिखाएं। गौतम बुद्ध की यह बात सुनकर अजातशत्रु अचंभित रह गया।

राजा ने कहा, ‘टूटे तिनके कैसे जुड़ सकते हैं?’ राजा का उत्तर सुनकर बुद्ध ने कहा कि राजन, जिस तरह यह तिनका तोड़ा जा सकता है पर जोड़ा नहीं जा सकता, उसी तरह मूक पशु को मारने के बाद आप उसे जिंदा नहीं कर सकते। बल्कि इस जीव हत्या से आपकी परेशानियां कम होने के बजाय और बढ़ेंगी। आप ही की तरह इस पशु को भी तो जीने का हक है। आपको अपनी मुश्किलों को कम करने के लिए बुद्धि और वीरता का सहारा लेना चाहिए, असहाय प्राणियों की बलि मत दीजिए।’ भगवान बुद्ध की यह बात सुनकर अजातशत्रु ने राज्य में पशु-बलि बंद करने का आदेश दे दिया।

Products You May Like

Articles You May Like

कमजोर रुपये, ईरान पर प्रतिबंध से चिंता में भारत, वायदा कारोबार पर कर रहा विचार
भारत में शिशु मृत्यु दर में आई कमी, लेकिन अभी भी आंकड़ा 8 लाख के पार
Pitru Paksha shradh 2018: श्राद्ध के दिन क्या करें और क्या नहीं, जानिए यहां
सलमान खान ने YouTube पर आमिर शाहरुख अक्षय को पछाड़ा, Swag Se Swagat से बने ‘सुल्तान’
VIDEO: यूपी के कासगंज में बीजेपी विधायक की गुंडागर्दी, गलत काम करने से मना करने पर JE को पीटा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *