दलितों के खिलाफ अपराध के मामले में भी नहीं होगी ‘नियमित’ गिरफ्तारी : इलाहाबाद HC

बड़ी ख़बर

लखनऊ: इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने मंगलवार को पुलिस से कहा कि वह उच्चतम न्यायालय के 2014 के एक आदेश द्वारा समर्थित सीआरपीसी के प्रावधानों का पालन किए बगैर एक दलित महिला और उसकी बेटी पर हमले के आरोपी चार लोगों को गिरफ्तार नहीं कर सकती. यह मामला आईपीसी के साथ-साथ अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (उत्पीड़न निरोधक) कानून के तहत दर्ज हुआ था, लेकिन न्यायालय ने पुलिस को तत्काल ‘‘नियमित’’ (रूटीन) गिरफ्तारी करने से रोक दिया. 

दलितों पर अत्यचार बढ़े, बीजेपी के दलित सांसद खुलकर जता रहे असंतोष

टिप्पणियां

उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ में न्यायमूर्ति अजय लांबा और न्यायमूर्ति संजय हरकौली की खंडपीठ ने यह आदेश पारित किया. साल 2014 में उच्चतम न्यायालय ने अर्णेश कुमार के मामले में आरोपी की गिरफ्तारी पर दिशानिर्देशों का समर्थन किया था. सीआरपीसी की धारा 41 और 41-ए कहती है कि सात साल तक की जेल की सजा का सामना कर रहे किसी आरोपी को तब तक गिरफ्तार नहीं किया जाएगा, जब तक पुलिस रिकॉर्ड में उसकी गिरफ्तारी के पर्याप्त कारणों को स्पष्ट नहीं किया जाता.    

Advertisement

VIDEO: दलितों पर अत्याचार जारी
उच्च न्यायालय का आदेश ऐसे समय पर आया है जब अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (उत्पीड़न निरोधक) कानून का दुरूपयोग रोकने के लिए उच्चतम न्यायालय की ओर से पारित आदेश को पलटने की मंशा से हाल में संसद ने इस कानून में संशोधन के लिए एक विधेयक पारित किया है.    

Products You May Like

Articles You May Like

एशियाई विकास बैंक ईईएसएल को 1.30 करोड़ डालर का कर्ज देगा
Amazon Prime Video अब हिन्दी में भी उपलब्ध
ममता बनर्जी और चंद्रबाबू पर अरुण जेटली का हमला, जिनके पास छिपाने के लिए बहुत कुछ वही अपने राज्य में नहीं घुसने देते सीबीआई
NEWS FLASH: गाजा तूफान के आज तमिलनाडु और पुद्दुचेरी के तटीय क्षेत्रों में दाखिल होने की आशंका
दाभोलकर की हत्या आतंक पैदा करने के लिए की गई थी: सीबीआई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *