ट्रंप बोले-कड़े रुख के बाद भी भारत व्यापार समझौते के लिए आतुर, आया था फोन

ताज़ातरीन

नई दिल्ली: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के मुताबिक कड़े रुख के बावजूद भारत व्यापार समझौता करना चाहता है. ट्रंप ने अमेरिका को भी विकासशील देश बताते हुए कहा है कि उसे भी तेजी से विकास की जरूरत है. इस सिलसिले में डोनाल्ड ट्रंप उस सब्सिडी को समाप्त करना चाहते है जो भारत और चीन जैसी अर्थव्यवस्थाएं प्राप्त करती रही हैं. राष्ट्रपति की नजर में अमेरिका विकासशील देश है और वह चाहते हैं कि किसी भी अन्य देश की तुलना में वह तीव्र वृद्धि करे. वह प्राय: भारत पर अमेरिकी उत्पादों पर 100 प्रतिशत शुल्क लगाने का आरोप लगाते रहे हैं.

ट्रंप को किम जोंग उन का दूसरी बैठक की मांग करने वाला पत्र मिला : व्हाइट हाउस

ट्रंप ने कहा, ‘‘… भारत से दूसरे दिन कॉल आया. उन्होंने कहा कि वे पहली बार व्यापार समझौता करना चाहते हैं.’’ हालांकि, उन्होंने यह नहीं बताया कि उनके पास किसका फोन आया था. राष्ट्रपति ने शुक्रवार को साऊथ डकोता में एक कार्यक्रम में अपने समर्थकों के बीच कहा, ‘‘पूर्व सरकार के साथ उन्होंने इस बारे में कोई बात नहीं की. वे जो चीजें चल रही थी, उससे खुश थे.’’ इस बीच, अमेरिकी प्रशासन के एक अधिकारी ने कहा है कि भारत द्वारा रूस से एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली खरीदने के बड़े सैन्य सौदे को लेकर अमेरिका भारत के साथ बातचीत जारी रखेगा.

Advertisement

ट्रंप ने की लेख लिखने वाले ‘‘बुजदिल’’ के नाम का खुलासा करने की मांग 

रूस से भारत हवाई रक्षा प्रणाली पांच एस-400 ट्रिउंफ मिसाइल करीब 4.5 अरब डालर में खरीदने की योजना बना रहा है. अमेरिका ने एक कानून के तहत रूस से हथियारों की खरीद पर रोक लगा रखी है. ऐसे में भारत के रूस के साथ हथियार सौदा करने से इस कानून का उल्लंघन माना जा रहा है. (इनपुट भाषा से)

टिप्पणियां

वीडियो-भारत-अमेरिका के बीच हुए अहम सैन्य समझौते 

Products You May Like

Articles You May Like

भाभी के साथ घूमने निकले शाहिद कपूर के भाई, कैमरा देखते ही यूं दिए रिएक्शन… देखें Video
महंगाई के जमाने में पासिंग मार्क्स
कर्क राशिफल 17 नवंबर 2018: वाद-विवाद से बचें
Nokia 2.1 Plus, Nokia 8.1 और Nokia 9 स्मार्टफोन से 5 दिसंबर को उठ सकता है पर्दा
दिल्लीः फैशन डिजाइनर और नौकर की हत्या के बाद थाने पहुंचे आरोपी, पुलिस से बोले-लाशें पड़ीं हैं, जाकर उठा लो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *