सेफगार्ड ड्यूटी से बढ़ा NTPC के 2000MW सोलर पावर प्रोजेक्ट का टैरिफ

बिज़नेस

[ निष्ठा सलूजा | नई दिल्ली ]

सरकारी कंपनी एनटीपीसी की तरफ से इसी साल जारी 2000 मेगावॉट के टेंडर के लिए जो सोलर पावर डिवेलपर्स क्वॉलिफार्इ हुए थे उनसे सेफगार्ड ड्यूटी के मद्देनजर एडिशनल टैरिफ सबमिट करने के लिए कहा गया है। डिलेवपर्स ने सोमवार को कंपनी से यह क्लैरिफिकेशन मांगा था कि क्या सेफगार्ड ड्यूटी के चलते एडिशनल टैरिफ का बोझ वे डिस्ट्रीब्यूशन कंपनियों पर डाल सकते हैं। मामले के जानकार सूत्रों के मुताबिक उन्होंने कहा था कि अगर उन्हें ऐसा करने की इजाजत नहीं मिलती है तो टेंडर को खारिज कर दिया।

टेंडर के लिए 4000 मेगावॉट अधिक सब्सक्रिप्शन मिला था, जबकि सॉफ्टबैंक की सपोर्टेड एसबीजी क्लीनटेक ने पूरे 2000 मेगावॉट कैपेसिटी के लिए बिड किया था। पिछले महीने आए इस टेंडर के लिए प्राइस के साथ टेक्निकल बिड देनेवाली 14 कंपनियों में रिन्यू पावर, ACME सोलर, हीरो फ्यूचर एनर्जीज, एवाडा पावर और अडानी ग्रीन एनर्जी शामिल थीं। टेंडर में शामिल कंपनियों के प्रतिनिधियों ने सोमवार को एनटीपीसी के अफसरों के साथ इंडिविजुअल तौर पर मुलाकात की थी। सूत्र ने बताया कि बुधवार को एनटीपीसी की तरफ से डिवेलपर्स को 13 अगस्त तक एडिशनल टैरिफ सबमिट करने के लिए कहा गया।

एनटीपीसी ने डिवेलपर्स से कहा है कि वे अब जो ओरिजनल और एडिशनल टैरिफ मिलाकर जो टोटल जमा कराएंगे, उसके आधार पर रिवर्स ऑक्शन के लिए बिडर्स को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा। एक इंडिपेंडेंट पावर प्रोड्यूसर के एग्जिक्यूटिव ने कहा कि पिछले हफ्ते सेफगार्ड ड्यूटी लगाए जाने के बाद डिवेलपर्स के लिए 3 रुपये प्रति यूनिट से कम टैरिफ रखना मुश्किल हो जाएगा। यह लेवल रिन्यूएबल एनर्जी पीपीए के लिए नॉर्मल लेवल हो गया है। सूत्र ने पहचान जाहिर नहीं किए जाने की शर्त पर कहा, ‘टोटल प्रोजेक्ट कॉस्ट में मॉड्यूल्स का हिस्सा 60% होता है इसलिए टैरिफ में लगभग 50 पैसे प्रति यूनिट्स की बढ़ोतरी हो सकती है।’

इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स का कहना है कि डिवेलपर्स को एडिशनल टैरिफ सबमिट करने की इजाजत दिए जाने से टेंडर को लेकर जरूरी क्लैरिटी आ गई है। रिन्यूएबल एनर्जी कंसल्टेंसी ब्रिज टू इंडिया के एमडी विनय रुस्तगी ने कहा, ‘MNRE और NTPC ने डिवेलपर्स की बात सुनी और उनको सही माना। डिवेलपर्स को एडिशनल टैरिफ देने के लिए कहा गया है जो टेंडर की प्रोग्रेस के लिए पॉजिटिव है।’ रुस्तगी के मुताबिक, सेफगार्ड ड्यूटी लगाए जाने से पहले सोलर पावर टैरिफ ~2.50 से 2.80 तक था जिसमें अब लगभग 40 पैसे की बढ़ोतरी हो सकती है।

एनटीपीसी के अफसरों के साथ मीटिंग में कुछ डिवेलपर्स ने ऐसी बिड मंगाने के लिए कहा, जिसमें टेंडर के टर्म्स एंड कंडिशंस में कोई बदलाव नहीं होगा और डिवेलपर्स को रिवर्स ऑक्शन से पहले रिवाइज्ड फाइनेंशियल बिड जमा कराने की इजाजत दी जाए। सूत्र ने बताया कि ऑक्शन की रिवर्स बिडिंग जल्द होने वाला थी जिसमें टैरिफ बढ़ाए जाने की इजाजत नहीं थी और बिड देनेवाले डिवेलपर्स ने फाइनेंशियल बिड जमा करते वक्त सेफगार्ड ड्यूटी को ध्यान में नहीं रखा था।

Products You May Like

Articles You May Like

ग्रैजुएशन के बाद बैंकिंग में ये जॉब, खास बातें
Ravana burn on Dussehra: इसलिए जलाते हैं रावण दक्षिण भारतीय करते हैं पुतले जलाने का विरोध
‘ठांय-ठांय’ की आवाज सुनकर थरथरा जाएगा दिल, भौकाल मचाने आ गया ‘गुड्डू पंडित’, देखें Video
Amritsar Train Accident: पटरी पर रेलवे के इतिहास का सबसे बड़ा हादसा, जानिये कब और कहां कितने लोगों ने गंवाई जान…
अमृतसर हादसा : ट्रेन धड़धड़ाती हुई आ रही थी और लोग ट्रैक पर सेल्फी ले रहे थे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *