जेट एयरवेज के चेयरमैन बोले, निवेशकों के पैसा गंवाने पर शर्मिंदा हूं

बिज़नेस

मुंबई

जेट एयरवेज के संस्थापक चेयरमैन नरेश गोयल ने गुरुवार कहा कि उनके शेयरधारकों को इस समय पैसा गंवाना पड़ा है, जिसकी वजह से वह अपने को ‘दोषी और शर्मिंदा’ महसूस कर रहे हैं। बता दें कि वित्तीय संकट से जूझ रही इस निजी एयरलाइन कंपनी के शेयरों में भारी गिरावट आई है। यह एक संपूर्ण सेवा विमानन कंपनी है। इसका शेयर दो जुलाई के बाद से अब तक 12 प्रतिशत तक टूट चुका है। गुरुवार को कारोबार के दौरान यह 52 सप्ताह के निचले स्तर 286.95 रुपये पर आ गया।

कंपनी का शेयर 5 जनवरी, 2018 को 52 सप्ताह के उच्चतम स्तर 883.65 रुपये पर पहुंचा था। उस समय के बाद से गुरुवार को यह 67.5 प्रतिशत नीचे है। कंपनी की सालाना आम सभा को संबोधित करते हुए गोयल ने कहा कि प्रतिस्पर्धा बढ़ रही है और ईंधन भी महंगा हो रहा है। गोयल ने कहा, ‘काफी शेयरधारकों ने पैसा गंवाया है। मैं दोषी और शर्मिंदा महसूस कर रहा हूं।’

एयरलाइन की वित्तीय सेहत और कर्मचारियों के वेतन में कटौती के प्रस्ताव की चिंता के बीच जेट एयरवेज के चेयरमैन ने कहा कि सार्वजनिक धारणा सुधारने तथा नकारात्मक प्रचार को रोकने के लिए एक नई समिति गठित की जाएगी। गोयल ने कहा कि नई कार्यकारी समिति के जरिए कंपनी के बारे में सभी धारणाओं को सुधारा जाएगा। एयरलाइन के निदेशक नसीम जैदी और अशोक चावला नई कार्यकारी समिति की बैठक की अध्यक्षता करेंगे।

उन्होंने इस बात का जिक्र किया कि एयरलाइन का वैश्विक स्तर पर भागीदारों के साथ मजबूत कोड शेयर नेटवर्क है। उन्होंने कहा कि हम इंजिनियरिंग और उड़ान सेवाओं में एयर इंडिया के साथ भी सहयोग पर विचार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस बारे में एयर इंडिया के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक प्रदीप सिंह खारोला के साथ कई बैठकें हो चुकी हैं।

Products You May Like

Articles You May Like

उम्र 62 साल, जुर्म 113, नाम बशीरन उर्फ मम्मी, पढ़ें खौफ का पर्याय बन चुकी ‘लेडी डॉन’ की कहानी
Moto P30, Moto P30 Note और Moto P30 Play ऑनलाइन लिस्ट
15 अगस्त पर ध्वाजारोहण न कराने पर स्कूल प्रिंसिपल गिरफ्तार
NEWSFLASH: केरल में बारिश और बाढ़ को लेकर अलर्ट जारी, अभी भी कई इलाकों में फंसे हैं हजारों लोग
नेशनल हेराल्ड केस : सोनिया गांधी और ऑस्कर फर्नांडीज की याचिकाओं पर आज दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *