आजादी की लड़ाई में बापू का आखिरी दांव

शिक्षा

बापू ने इस आंदोलन की शुरुआत अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के मुंबई अधिवेशन से की थी। अंग्रेजों को देश से भगाने के लिए भारतीय राष्‍ट्रीय कांग्रेस ने 4 जुलाई, 1942 को एक प्रस्‍ताव पारित किया था। शुरू में तो इस प्रस्‍ताव को लेकर पार्टी में काफी मतभेद थे। पार्टी नेता सी राजगोपालाचारी ने पार्टी छोड़ दी। मगर नेहरू और मौलाना आजाद ने बापू के आह्वान पर अंत तक इसके समर्थन का फैसला किया।

Products You May Like

Articles You May Like

India Independence Day 2018: सपना चौधरी ने पहना तिरंगा, जोर-जोर से लगाए जय हिंद के नारे…
वाजपेयी के सम्मान में मॉरीशस के सरकारी भवनों में राष्ट्र ध्वज आधा झुका रहेगा
स्वतंत्रता दिवस के दिन इस देशभक्त का भी जन्मदिन, ऐसे लड़ी आजादी की जंग
WWE रेसलर ने सलमान खान को किया चैलेंज, हाथ से मोड़ा लोहे का पैन और फिर हुआ कुछ ऐसा… देखें Video
Ebenezer Cobb Morley: पेशे से वकील थे फुटबॉल एसोसिएशन के जनक, गूगल ने डूडल बनाकर किया इबेनेजर कॉब मोरली को याद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *