पाटीदार नेता हार्दिक पटेल को राहत, गुजरात हाईकोर्ट ने 2015 दंगों के लिए सजा पर लगाई रोक

बड़ी ख़बर

अहमदाबाद: गुजरात हाईकोर्ट ने पाटीदार नेता हार्दिक पटेल को विसनगर दंगा मामले में राहत दे दी है. कोर्ट ने हार्दिक की याचिका पर सुनवाई करते हुए उनकी दो साल की सजा को निलंबित कर दिया. गुजरात हाईकोर्ट ने बुधवार को निचली अदालत के उस आदेश को निलंबित कर दिया, जिसमें 2015 के दंगा मामले में पाटीदार आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल को दो साल के कारावास की सजा दी गई थी. न्यायमूर्ति एसएच वोरा ने यह भी आदेश दिया कि हार्दिक को इस मामले में जमानत दी जाए, साथ ही कोर्ट ने हार्दिक को उनकी अपील सुने जाने तक पुलिस के सामने आत्मसमर्पण नहीं करने की इजाजत भी दी है.

यह भी पढ़ें : तोड़फोड़ मामले में 2 साल की सजा मिलने के बाद हार्दिक पटेल ने BJP पर साधा निशाना, दिया यह बयान

Advertisement

बता दें कि हार्दिक ने विसनगर अदालत के 25 जुलाई के आदेश को चुनौती दी थी, जिसमें उन्हें 2015 में आरक्षण आंदोलन के दौरान स्थानीय विधायक ऋषिकेश पटेल के कार्यालय में आगजनी और दंगा करने का दोषी पाया गया था. स्थानीय अदालत ने हार्दिक को दोषी ठहराने के बाद सजा सुनाते हुए उनकी अस्थायी जमानत मंजूर की थी.

VIDEO : हार्दिक पटेल को 2 साल की जेल, फिर बेल

टिप्पणियां

बीते 25 जुलाई को पाटीदार अनामत आंदोलन के दौरान विसनगर विधानसभा सीट से विधायक ऋषिकेश पटेल के ऑफिस में तोड़फोड़ करने के मामले में कोर्ट ने हार्दिक पटेल और लाल जी पटेल को दोषी करार दिया था. अदालत ने दोनों की दो साल की सजा सुनाई थी. अदालत ने दोनों आरोपियों को IPC की धारा 147, 148, 149, 427 और 435 के तहत दोषी करार दिया था. अदालत ने दोनों पर 50-50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया था.

(इनपुट: भाषा)

Products You May Like

Articles You May Like

AMU में कश्मीरी छात्रों का प्रदर्शन, कहा-देशद्रोह का केस वापस नहीं हुआ तो डिग्री सरेंडर कर घर लौट जाएंगे
कांग्रेस ने पोस्टर लगा राफेल का दाम बताने वाले को 5 करोड़ इनाम देने की घोषणा की, तो भाजपा ने कहा-राहुल ही जीतेंगे
पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी में निर्भया जैसा मामला, महिला से रेप के बाद कथित रिश्तेदार ने किया यह काम
नवजोत सिंह सिद्धू और मोहम्‍मद अजहरुद्दीन भी छत्तीसगढ़ में होंगे कांग्रेस के स्‍टार प्रचारक
‘मसखरा राजकुमार’ बता जेटली का राहुल पर वार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *