हॉरर होम: इंस्पेक्टर नपे, ब्रजेश पर कसा शिकंजा

देश

फाइल फोटो

पटना

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम में बच्चियों से दरिंदगी के मामले में सीबीआई जांच के साथ ही लापरवाही बरतनेवाले अधिकारियों पर भी गाज गिरनी शुरू हो गई है। लगातार विपक्ष के हमलों से घिरी नीतीश सरकार ने अब मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में इंस्पेक्टर विनोद कुमार सिंह को मंगलवार को सस्पेंड कर दिया गया है। पिछले दिनों समाज कल्याण विभाग से संबंध छह जिलों के सहायक निदेशकों और सात जिलों के सीपीओ (बाल संरक्षण पदाधिकारी) को निलंबित किया गया था। उधर, मामले के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर पर भी शिकंजा कसना शुरू हो गया है। मंगलवार को ठाकुर के समस्तीपुर स्थित एक वृद्धाश्रम पर पुलिस ने छापेमारी की।

बता दें कि मुजफ्फरपुर रेप केस को लेकर सियासत गर्म है। विपक्ष इस मुद्दे को लेकर नीतीश सरकार पर लगातार हमलावर है। एक तरफ जहां मुख्य विपक्ष आरजेडी ने समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा को बर्खास्त करने की मांग की है, वहीं नीतीश सरकार मंजू वर्मा के समर्थन में उतर आई है। बिहार के डेप्युटी सीएम सुशील कुमार मोदी ने मंजू वर्मा का समर्थन करते हुए कहा कि उन पर कोई आरोप नहीं है। सीएम नीतीश कुमार ने भी वर्मा का बचाव करते हुए कहा कि इस मसले पर केवल राजनीति हो रही है।

पढ़ें: नीतीश ने किया मंत्री का बचाव, विपक्ष पर तंज

नीतीश ने स्वीकार, सिस्टम में ही गड़बड़ी

नीतीश ने कहा कि यह घटना शर्मसार करने वाली है। उन्होंने कहा, ‘घटना के बारे में मैं बहस नहीं करना चाहता हूं। यह शर्मसार करने वाली घटना है। पूरे सिस्टम में ही गड़बड़ी है। समाज कल्याण विभाग के प्रधान सचिव ने ही इस पूरे मामले की जांच करवाया था। जिसे जो बोलना है बोले, हमलोग इस तरह की घटना से चिंतित हैं। हम शेल्टर होम की जिम्मेदारी एनजीओ को देने के खिलाफ हैं। मैंने समाज कल्याण विभाग को सलाह दी है कि ऐसे शेल्टर होम की निगरानी और संचालन राज्य सरकार द्वारा हो। यह काम चरणबद्ध तरीके से लागू किया जाएगा।’

सीबीआई ने अपने हाथ में ली जांच

इस बीच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने मुजफ्फपुर शेल्टर होम रेप केस की जांच पूरी तरह से अपने हाथ में ले ली है। सीबीआई की टीम ने स्थानीय पुलिस और प्रशासन से इस मामले से जुड़े सभी दस्तावेज और सबूत ले लिए हैं। इसके साथ ही जांच एजेंसी की टीम टीआईएसएस (टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज) के संपर्क में है, जिसने मुजफ्फरपुर के शेल्टर होम का ऑडिट किया था। समाज कल्याण विभाग और टीआईएसएस से सभी दस्तावेज हासिल करने के बाद सीबीआई की एक टीम मामले में आगे की जांच के लिए मुजफ्फरपुर पहुंच चुकी है।

सभी शेल्टर होम की जांच के निर्देश

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को सभी जिलाधिकारियों को चाइल्ड शेल्टर होम और विमिन शेल्टर होम का निरीक्षण करने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही उन्होंने यह भी आदेश दिया है कि सभी शेल्टर होम्स पर पर्याप्त सुरक्षा इंतजाम किए जाएं।


ब्रजेश समेत 10 आरोपी हो चुके हैं गिरफ्तार


हाल ही में मुजफ्फरपुर के एक शेल्टर होम में 34 बच्चियों से रेप की घटना सामने आने के बाद बिहार की राजनीति में भूचाल आ गया था। इस मामले में मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर समेत 10 आरोपी गिरफ्तार किए जा चुके हैं। वहीं बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा है कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा और कड़ी सजा दिलाई जाएगी।

Products You May Like

Articles You May Like

साप्ताहिक राशिफल कन्या 22 से 28 अक्टूबर: भाग्य का अच्छा साथ प्राप्त होगा
Lenovo S5 Pro, Motorola One Power, Nokia 6.1 Plus और Xiaomi Redmi Note 5 Pro में कौन बेहतर?
एक अच्छा पर्सनल लोन ऑफर ढूंढने में मदद करने वाली 5 चीजें
सज्जन जिंदल वर्ल्ड स्टील के कोषाध्यक्ष चुने गए, लक्ष्मी मित्तल, टी.वी. नरेंद्रन सदस्य
अमृतसर ट्रेन हादसे में खुलासा: पुलिस ने दी थी ‘रावण दहन’ कार्यक्रम के लिए NOC, जानें घटना से जुड़ी 10 बातें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *