35A पर सुनवाई आज: घाटी बंद है, ताकि J&K रहे खास

देश

नई दिल्ली
जम्मू-कश्मीर को विशेष शक्तियां देने वाले संविधान के आर्टिकल 35-A की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट में आज यानी सोमवार की सुनवाई होगी। इसे लेकर कश्मीर घाटी में हालात गरमा गया है। करीब छह दशक से जारी आर्टिकल 35-A को संवेदनशील मसला समझा जाता है और इस मसले पर सुप्रीम कोर्ट में जो भी फैसला आए, इसके दूरगामी राजनीतिक नतीजे देखे जा रहे हैं।

आर्टिकल को भेदभावपूर्ण बताते हुए दिल्ली के एनजीओ ‘वी द सिटिजन’ ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। रविवार को कश्मीर के कई जिलों में प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शनकारियों ने इसके विरोध में दो दिन के बंद का आह्वान भी किया है। इसके मद्देनजर प्रशासन ने भारी सुरक्षाबल की तैनाती की है। आर्टिकल को कायम रखने के पक्ष में अलगाववादियों की संस्था JRL (जॉइंट रजिस्टेंट लीडरशिप) ने रविवार और सोमवार को घाटी बंद रखने का ऐलान किया।

बंद को कारोबारियों, ट्रांसपोर्टर और बार असोसिएशन का भी पूरा समर्थन है। घाटी में रविवार और सोमवार को ट्रेन सेवाएं सस्पेंड रखी गई हैं। अमरनाथ यात्रा को भी ऐहतियातन दो दिन के लिए रोका गया है। सूत्रों के मुताबिक, खुफिया विभाग ने राज्यपाल प्रशासन को अगाह किया है कि सोमवार को अगर सुप्रीम कोर्ट संविधान के अनुच्छेद 35ए पर कोई ‘विपरीत’ फैसला देता है तो राज्य की पुलिस में ही ‘विद्रोह’ हो सकता है।

अमरनाथ यात्रा रोकी गई

दो दिन की हड़ताल के चलते रविवार को जम्मू से अमरनाथ यात्रा स्थगित कर दी गई। चेनाब घाटी के जिलों रामवन, डोडा और किश्तवाड़ से अनुच्छेद 35 ए के समर्थन में आंशिक हड़ताल और शांतिपूर्ण रैलियों की खबर है। विभिन्न धार्मिक और सामाजिक संगठनों ने अनुच्छेद 35 ए को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दिए जाने के खिलाफ हड़ताल का आह्वान किया है। अधिकारियों ने बताया कि अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू में डेरा डाले तीर्थयात्रियों को रविवार सुबह भगवती नगर आधार शिविर से आगे जाने की अनुमति नहीं दी गई।

फैसल शाह का ट्वीट, रद्द करेंगे तो रिश्ता खत्म
सोशल मीडिया पर अपनी एक टिप्पणी के कारण पूर्व में अनुशासनात्मक कार्रवाई का सामना कर चुके आईएएस अफसर शाह फैसल ने रविवार को संविधान के अनुच्छेद 35-ए की तुलना निकाहनामे (विवाह दस्तावेज) से की। फैसल ने ट्वीट किया, ‘आप इसे रद्द करेंगे और रिश्ता खत्म हो जाएगा। बाद में बात करने के लिए कुछ नहीं बचेगा।’ पूर्व मंत्री और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता नईम अख्तर ने फैसल के ट्वीट को रिट्वीट किया और अपने विचार भी जोड़े। उन्होंने ट्वीट किया, ‘इसे रद्द किया जाना वैवाहिक दुष्कर्म जैसा होगा। एक संवैधानिक संबंध को यह कब्जे में बदल देगा।’

क्या है आर्टिकल 35-A
आर्टिकल 35-A को वर्ष 1954 राष्ट्रपति आदेश के जरिये संविधान में जोड़ा गया अनुच्छेद 35-ए जम्मू कश्मीर के स्थायी निवासियों को विशेष अधिकार देता है और राज्य से बाहर के किसी व्यक्ति से शादी करने वाली महिला से संपत्ति का अधिकार छीनता है। साथ ही, कोई बाहरी शख्स राज्य सरकार की योजनाओं का फायदा भी नहीं उठा सकता है और न ही वहां सरकारी नौकरी पा सकता है।

Products You May Like

Articles You May Like

साप्ताहिक अंकज्योतिष 22 से 28 अक्टूबरः मूलांक 3 वालों के लिए सप्ताह फायदेमंद, आपके लिए कैसा…
ऑफिस में आपके साथ हों ये बातें तो माना जाएगा ‘सेक्सुअल हरैसमेंट’
PAK vs AUS: वे‍ल्डिंग की और लेदर फैक्‍टरी में किया काम, इस पाकिस्‍तानी बॉलर की आज है हर जगह चर्चा
MNC में काम करने वाली महिला से उसके दो सहयोगियों ने किया रेप, गिरफ्तार
आम्रपाली दुबे-निरहुआ ने ढोल पर चढ़कर किया ऐसा डांस, ‘हिम्मतवाला’ के जीतेंद्र-श्रीदेवी को जाएंगे भूल- देखें Video

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *