12 साल तक पेप्सिको की CEO रहने के बाद इंदिरा नूयी 3 अक्‍टूबर को पद छोड़ेंगी 

दुनिया

न्यूयॉर्क: पेप्सिको (PepsiCo) की भारतीय मूल की मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) इंदिरा नूयी (Indra Nooyi) 3 अक्टूबर को अपना पद छोड़ेंगी. वह पिछले 12 साल से अमेरिका की इस प्रमुख फूड और बेवरेज कंपनी की अगुवाई कर रही हैं. कंपनी ने इसकी घोषणा की. इंदिरा नूयी पिछले 24 साल से इस कंपनी से जुड़ी हैं. हालांकि वह 2019 की शुरुआत तक कंपनी की चेयरमैन रहेंगी.

यह भी पढ़ें : पेप्सीको की इंदिरा नूयी फॉर्चून की सूची में दूसरी सबसे ताकतवर महिला
 

कंपनी के अध्यक्ष रामोन लागुआर्ता को निदेशक मंडल ने नूयी का उत्तराधिकारी चुना है. लागुआर्ता को कंपनी के निदेशक मंडल में भी शामिल किया गया है. नूयी ने बयान में कहा, ‘मैं भारत में पली बढ़ी हूं. मैंने कभी कल्पना भी नहीं की थी कि मुझे ऐसी असाधारण कंपनी की अगुवाई करने का मौका मिलेगा.’ नूयी ने कहा कि कंपनी काफी मजबूत स्थिति में है और आगे उसके काफी बेहतर दिन आएंगे. पिछले 22 साल से कंपनी से जुड़े लागुआर्ता सितंबर से अध्यक्ष पद पर हैं. वह वैश्विक परिचालन, कॉरपोरेट रणनीति, सार्वजनिक नीति तथा सरकारी मामलों से संबंधित कामकाज देख रहे हैं.

यह भी पढ़ें : महिलाओं को नहीं मिल सकती दोनों जहां की खुशियां : इंदिरा नूयी

Advertisement

टिप्पणियां


इससे पहले लागुआर्ता यूरोप ओर उप सहारा अफ्रीका खंडों की अगुवाई कर चुके हैं. कंपनी ने कहा कि नूयी के जाने के बाद पेप्सिको की नेतृत्व वाली शेष टीम में कोई बदलाव नहीं होगा. सीएनबीसी की खबर के अनुसार नूयी के संदर्भ में घोषणा के बाद कंपनी के शेयर मूल्य में मामूली गिरावट आई.
 

नूयी ने बयान में कहा, ‘मैं भारत में पली बढ़ी हूं. मैंने कभी कल्पना भी नहीं की थी कि मुझे ऐसी असाधारण कंपनी की अगुवाई करने का मौका मिलेगा.’ नूयी ने कहा कि कंपनी काफी मजबूत स्थिति में है और आगे उसके काफी बेहतर दिन आएंगे. चेन्नई में जन्मी नूयी ने ट्वीट किया, ‘समुदायों के बीच जहां हमारे उत्पाद पहुंचते हैं, उनमें अपने अंशधारकों के हितों को बढ़ाने के लिए हमने पिछले 12 बरस में जो काम किया है, उसे लेकर मैं काफी गौरान्वित महसूस कर रही हूं. अपनी वैश्विक टीम की जिस बात के लिए मैं प्रशंसा करती हूं वह यह कि सर्वश्रेष्ठ बनने के लिए प्रतिस्पर्धा करो और सर्वश्रेष्ठ बने रहो.’
 

नूयी ने ट्वीट किया, ‘आज मेरे लिए मिली जुली भावनाओं का दिन है. पेप्सिको पिछले 24 साल से मेरी जिंदगी है और मेरे दिल में यह हमेशा रहेगी. हमने जो किया है उस पर मुझे गर्व है और भविष्य को लेकर मैं रोमांचित हूं.’ यह तत्काल पता नहीं चल सका है कि नूयी ने सीईओ का पद छोड़ने का फैसला क्यों किया है.

(इनपुट : भाषा)

Products You May Like

Articles You May Like

नमस्ते इंग्लैंड
राम नहीं भारत के इन 6 मंदिरों में होती है रावण की पूजा, दशहरे के दिन मनता है शोक
#MeToo: केंद्रीय मंत्री के बयान पर हुआ विवाद, क्‍या विशाखा गाइडलाइंस को और ताकतवर बनाने की है जरूरत?
पंचांग 18 अक्टूबरः महानवमी आज, सिद्धिदात्री पूजा
लाल किले पर मोदी ने रचा इतिहास, खास बातें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *