फन्ने खां

फ़िल्म रिव्यू

रौनक कोटेचा
उम्मीदों, सपनों और
रिश्तों के बीच बुनी गई है ‘फन्ने खान’ की कहानी। यह एक ऐसे पिता की कहानी है, जो अपनी बेटी को भारत का अगला सिंगिंग सेंसेशन बनाने और उसे एक बड़ा मंच देने के लिए किसी भी हद तक जाता है।

रिव्यू: वह खुद मोहम्मद रफी तो नहीं बन पाता लेकिन अपनी बेटी को लता मंगेशकर बनाने के सपने जरूर देखता है। सुपरस्टार बनने का ख्वाब देखने वाला प्रशांत शर्मा (अनिल कपूर) जो कि अपने दोस्तों के बीच फन्ने खां के नाम से ज्यादा चर्चित है, अपने सपने को पूरा करने के लिए जी तोड़ मेहनत करता है। वह बॉलिवुड ऐक्टर शम्मी कपूर की पूजा तक करता नजर आता है और बस ऐसा लगता है कि जैसे वह सिर्फ सुपरस्टारडम के अपने सपने को पूरा करने के लिए ही जिंदा है। हालांकि, वह अपने इस ख्वाब को पूरा नहीं कर पाता और उसकी उम्मीदें अपनी नवजात बच्ची से बंध जाती हैं। यहां तक कि वह उसका नाम भी लता (पीहू सैंड) ही रखता है। लता बड़ी होती है और वह न केवल अच्छा गाती है बल्कि डांस भी अच्छा करती है। हालांकि, प्लस साइज़ होने की वजह से वह स्टेज पर लगातार बॉडी शेमिंग का शिकार भी होती है।

प्रशांत अपनी बेटी को स्टार बनाने के लिए सबकुछ करता है और यहां तक कि अपने इस ख्वाब को पूरा करने के लिए जो उसपर जुनून सवार है उसके लिए अपनी ही बच्ची से फटकार भी सुनता है। उन्होंने मुंबई के एक मिडल क्लास व्यक्ति को लेकर बेहतरीन बैलंस बनाने की कोशिश की है जो कि अपने सपने और सच के बीच खूब मशक्कत करता है। उसकी वाइफ कविता (दिव्या दत्ता) भी उसके इस सपने को सच करने में हमेशा उसके साथ होती है। बतौर डेब्यू ऐक्टर पीहू ने अपने किरदार को काफी संवेदनशीलता के साथ जीया है, लेकिन जो चीज समझ से परे है वह है लगातार उसका उसके पापा से शिकायत। हॉट सिंगर बेबी सिंह के किरदार में ऐश्वर्या राय बच्चन काफी गॉरजस दिख रही हैं, लेकिन उनकी कहानी पर ज्यादा मेहनत नहीं ही की गई। टैलंटेड ऐक्टर राजकुमार राव प्रशांत का काफी अच्छा दोस्त है। राजकुमार राव के साथ उनकी केमिस्ट्री अस्वाभाविक नज़र आती है, जो कि कॉमिडी वाले सीन में छिप जाती है।

फिल्म की कहानी की राह सेकंड हाफ में थोड़ी भटकती हुई दिखने लगती है। जैसे कि बेबी सिंह की कोई रियल बैकस्टोरी नहीं है और उनकी लाइफ में केवल उनका एक मैनेजर है जो बस यही चाहता है कि एक रिऐलिटी शो में स्टेज पर वह (बेबी) वॉरड्रोब मैलफंक्शन का शिकार हो जाए। फिल्म का सेकंड हाफ काफी लंबा और कठिन नज़र आता है। ‘अच्छे दिन’ को छोड़कर म्यूज़िकल फिल्म ‘फन्ने खां’ का साउंड ट्रैक उतना शानदार नहीं बन पड़ा है।

fanney-khan

देखिए, सलमान के शो पर ‘फन्ने खां’ को प्रमोट करने कौन-कौन पहुंचे

Loading

कुल मिलाकर ‘फन्ने खां’ सितारों से भरी एक म्यूज़िकल ड्रामा फिल्म है, जिसमें सितारे अपनी आवाज का जादू बिखेरते दिखते हैं। यह फिल्म दिखाती है कि कैसे कोई पैरंट्स अपने सपनों को अपने बच्चों के जरिए सच कर दिखाना चाहता है। इस फिल्म के शो स्टॉपर साफ तौर पर अनिल कपूर हैं, जिन्होंने अपने बेहतरीन अदाकारी का परिचय दिया है और जिसके लिए आपको ‘फन्ने खां’ एक बार जरूर देखनी चाहिए।

Products You May Like

Articles You May Like

राजस्थान में सीएम पद की रस्साकशी के बीच सचिन पायलट ने समर्थकों से की यह अपील…
RLSP के विधायक बोले, पार्टी हमारी, उपेंद्र कुशवाहा से अब कोई संबंध नहीं
सेना नौकरी का जरिया नहीं, नौकरी लेनी है तो रेलवे में जाएं या बिजनेस खोलें: सेना प्रमुख बिपिन रावत
राजस्थान: देश के पहले और इकलौते ‘गाय मंत्री’ भी नहीं बचा पाए अपनी सीट, जानें- क्या रहीं हार की वजह
LIVE UPDATES: कमलनाथ को MP की कमान, राजस्थान पर अब भी सस्पेंस, पायलट या गहलोत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *