बाल कविता : अदला-बदली

नन्ही दुनिया

आलू की चड्डी ढीली थी,
कुर्ता ढीला बैंगन का।
दोनों ही नाराज बहुत थे,
हुआ न कुछ उनके मन का।
कहा मटर ने अरे मूर्खों,
आपस में बदलो कपड़े।
ढीले-ढाले कपड़े पहने,
व्यर्थ रो रहे पड़े-पड़े।
अदला-बदली से दोनों को,
सच में मजा बहुत आया।
बैंगन को चड्डी फिट बैठी,
आलू को कुर्ता भाया।

Products You May Like

Articles You May Like

यूपीः प्रेम विवाह से गुस्सा भाई ने बहन के देवर का किया कत्ल
मनाली मत जइयो, गोरी राजा के राज में….पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की लोकप्रिय कविताएं
10 लाख उइगुर मुसलमानों को हिरासत में रखे जाने के मामले में चीन ने दिया ये जवाब
सीमापार संपत्तियों पर भी लागू हो सकता है दिवाला कानून : सचिव 
15 दिसंबर से UIDAI शुरू करेगी चेहरा पहचानने की सुविधा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *