लंदन से अनिल अंबानी के लिए आई मुसीबत, 21 दिनों में चुकाने होंगे 5000 करोड़

बिज़नेस
NBT
हाइलाइट्स

  • यूके कोर्ट का अनिल अंबानी को फरमान
  • 21 दिनों के भीतर चुकाएं 717 मिलियन डॉलर
  • आरकॉम के कर्ज गारंटी से जुड़ा है यह मामला
  • जज ने कहा- गारंटी प्रतिवादी पर बाध्यकारी है

नई दिल्ली

रिलायंस ग्रुप के चेयरमैन अनिल अंबानी के लिए भारी मुसीबत की खबर लंदन से आई है। लंदन के एक कोर्ट ने उन्हें चीन के तीन बैंकों को 717 मिलियन डॉलर (5000 करोड़ से ज्यादा) 21 दिनों के भीतर चुकाने का आदेश दिया है। हाईकोर्ट ऑफ इंग्लैंड ऐंड वेल्स के कमर्शल डिविजन के जस्टिस नीगेल टीयरे ने कहा कि इस मामले में अनिल अंबानी की पसर्नल गारंटी है, जिसके कारण उन्हें रकम चुकानी होगी।

प्रतिवादी रकम चुकाने के लिए बाध्यकारी

जस्टिस नीगेल ने अपने आदेश में कहा कि गारंटी प्रतिवादी पर बाध्यकारी है। इसलिए उन्हें यह रकम चुकानी होगी। कुल रकम 71 करोड़ 69 लाख 17 हजार 681 डॉलर है।

ऐमजॉन 50 हजार लोगों को नौकरी देगा

आरकॉम से जुड़ा है मामला

अनिल अंबानी के प्रवक्ता ने कहा कि यह मामला रिलायंस कम्युनिकेशन लिमिटेड द्वारा 2012 में कॉर्पोरेट लोन से जुड़ा है। इसके लिए उन्होंने पर्सनल गारंटी दी थी। हालांकि बयान में यह भी कहा गया है कि लोन अनिल अंबानी ने व्यक्तिगत रूप से नहीं ली

थी।

कोरोना संकट से निपटने RBI के 10 प्रमुख उपाय

अंबानी ने गारंटी पर कभी साइन नहीं की

इंडस्ट्रियल ऐंड कमर्शियल बैंक ऑफ चाइना (ICBC) ने अपना दावा उस गारंटी के आधार पर किया है जिसपर अनिल अंबानी ने कभी साइन नहीं किया था। इसके अलावा उन्होंने अपनी ओर से किसी भी गारंटी को निष्पादित करने के लिए किसी को अधिकृत करने से लगातार इनकार किया है।

Articles You May Like

माधुरी दीक्षित ने डांस से बांधा ऐसा समां, आलिया भट्ट और शाहिद कपूर भी हो गए दीवाने- देखें थ्रोबैक Video
इस पुलिसवाले ने ट्रंप को दी मुंह बंद रखने की सलाह तो बॉलीवुड डायरेक्टर बोले- भारत में बोलता तो राजद्रोह…
कोरोना की वजह से सो नहीं पा रही हैं मोहिना कुमारी सिंह, बोलीं- काफी मुश्किल भरे दिन…
नासा के दो अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर गया स्पेस एक्स का यान सफलता पूर्वक इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन से जुड़ा
दीपिका पादुकोण के ’83’ के पोस्ट प्रोडक्शन को संभालने की आई खबर तो यूं आया सच सामने

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *