पुलिस से कोर्ट- जामा मस्जिद पाक में नहीं

देश
नागरिकता कानून के खिलाफ दिल्ली के जामा मस्जिद के सामने बड़ा प्रदर्शन
हाइलाइट्स

  • भीम आर्मी नेता चंद्रशेखर की जमानत अर्जी पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को फटकारा
  • कोर्ट ने पूछा कि शांतिपूर्वक प्रदर्शन में क्या दिक्कत थी? कोर्ट ने कहा कि जामा मस्जिद पाकिस्तान में नहीं
  • कोर्ट ने कहा कि ऐसा कहीं नहीं लिखा कि धार्मिक जगह से प्रदर्शन नहीं किया जा सकता
  • चंद्रशेखर को जामा मस्जिद पर CAA के खिलाफ प्रदर्शन करने पर गिरफ्तार किया गया था

नई दिल्ली
भीम आर्मी नेता चंद्रशेखर की जमानत अर्जी पर सुनवाई करते हुए दिल्ली की अदालत ने पुलिस को फटकार लगाई। तीस हजारी कोर्ट ने पुलिस से पूछा कि जामा मस्जिद के सामने शांतिपूर्वक प्रदर्शन होने देने में उन्हें दिक्कत क्या थी। कोर्ट में पाकिस्तान तक का जिक्र आया। कोर्ट ने आगे भीम आर्मी के नेता चंद्रशेखर को उभरता नेता भी कहा। दरअसल, जामा मस्जिद पर नागरिकता संशोधन कानून को लेकर प्रदर्शन के चलते चंद्रशेखर को गिरफ्तार किया गया था। उन्हें वहां प्रदर्शन की इजाजत नहीं थी। इस प्रदर्शन के बीच दरियागंज में हिंसा भी हुई थी।

पाकिस्तान में नहीं है जामा मस्जिद: कोर्ट

कोर्ट ने पुलिस से पूछा कि कौन से कानून में लिखा है कि धार्मिक स्थान के बाहर प्रदर्शन नहीं किया जा सकता? आगे कहा गया कि लोग शांति से कहीं भी प्रदर्शन कर सकते हैं। कोर्ट ने कहा, ‘लोग शांति से कहीं भी प्रदर्शन कर सकते हैं। जामा मस्जिद पाकिस्तान में नहीं है जो वहां प्रदर्शन नहीं करने दिया जाए। शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन तो पाकिस्तान में भी होने दिया जाता है।’

सुनवाई के दौरान चंद्रशेखर पर कोर्ट ने कहा कि वह उभरते नेता हैं। उनके प्रदर्शन करने में क्या परेशानी थी। जज ने आगे कहा, ‘मैंने कई ऐसे लोग और कई मौके देखें हैं जब संसद के बाहर भी प्रदर्शन हुए हैं।’ इसके साथ ही कोर्ट ने चंद्रशेखर की जमानत याचिका पर सुनवाई को बुधवार तक के लिए स्थगित कर दिया।

“लोग शांति से कहीं भी प्रदर्शन कर सकते हैं। जामा मस्जिद पाकिस्तान में नहीं है जो वहां प्रदर्शन नहीं करने दिया जाए। शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन तो पाकिस्तान में भी होने दिया जाता है।”-जामा मस्जिद प्रदर्शन पर तीस हजारी कोर्ट

क्या है पूरा मामला

पुरानी दिल्ली के दरियागंज इलाके में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान हिंसा मामले में गिरफ्तार भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद ने सोमवार को जमानत के लिए दिल्ली की अदालत में याचिका में दायर दी थी। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस ने उनके खिलाफ अस्पष्ट आरोप लगाया है और गिरफ्तारी के लिए निर्धारित प्रक्रिया का अनुपालन नहीं किया। मंगलवार को कोर्ट ने आजाद की याचिका पर सुनवाई की।

क्या दरियागंज में पुलिस ने अधिक ताकत का इस्तेमाल कियाक्या दरियागंज में पुलिस ने अधिक ताकत का इस्तेमाल किया

आजाद ने दावा किया कि प्राथमिकी में उनके खिलाफ आरोप लगाए गए हैं जो न केवल ‘आधारहीन’ हैं, बल्कि ‘अजीब’ भी हैं। आजाद की जमानत याचिका वकील महमूद प्राचा के जरिए दाखिल की गई। इसमें कहा गया है कि प्राथमिकी में आजाद की विशेष भूमिका की जानकारी नहीं है और उसकी सामग्री ‘अनिश्चित’ और ‘अटकलों’ एवं ‘संदेह’ पर आधारित है, जबकि वह शांति कायम रखने की कोशिश कर रहे थे।

आजाद के संगठन ने 20 दिसंबर को पुलिस की अनुमति के बिना सीएए के खिलाफ जामा मस्जिद से जंतर-मंतर तक मार्च का आयोजन किया था। इस मामले में गिरफ्तार अन्य 15 लोगों को अदालत ने नौ जनवरी को जमानत दे दी थी। भीम आर्मी प्रमुख ने अपनी याचिका में कहा कि वह मामले की जांच में पूरा सहयोग करने को इच्छुक हैं और वह किसी सबूत से छेड़छाड़ नहीं करेंगे और न ही किसी गवाह को प्रभावित करेंगे।

NBT

Articles You May Like

न्यायिक आदेश के बावजूद सरकार के पास दूरसंचार क्षेत्र के लिए पर्याप्त विकल्प: सीओएआई
गोवा में बैंक जमा में 6,000 करोड़ रुपये से अधिक वृद्धि : आर्थिक समीक्षा
Happy Hug Day 2020: खूब मिल कर गले से रो लेना, इस से दिल की सफाई होती है…Hug Day पर रोमांटिक शायरी
सिद्धार्थ शुक्ला को Bigg Boss विनर ने बताया ‘गली का गुंडा’, बोलीं- खाने का सलीका नहीं…
Bhojpuri Songs Video: खेसारी लाल यादव का होली सॉन्ग हुआ सुपरहिट, यूट्यूब पर गाने की धूम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *