पाकिस्तान में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1000 के पार, सिंध राज्य ने की पूर्ण लॉक डाउन की घोषणा

दुनिया

इस्लामाबाद:

पाकिस्तान में कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या 1,000 के पार चली गई है. देश में कोविड-19 से संक्रमण के मरीजों की तादाद 1,037 हो गई . सिंध में 413 मामले हैं, बलूचिस्तान में 115, पंजाब में 296, खैबर पख्तूनख्वा में 117, गिलगित-बाल्टिस्तान में 80 और इस्लामाबाद में 15 मामले है. सिंध के मुख्यमंत्री मुराद अली शाह ने रविवार को घोषणा की कि कोरोनो वायरस के फैलाव को रोकने के लिए पूरे राज्य में अगले 15 दिनों तक लॉक डाउन किया जाएगा. सिंध सरकार के गृह विभाग के बयान में लॉक डाउन के बारे में प्रमुखता से बताया गया है. सिंध सरकार ने प्रधानमंत्री इमरान खान के राष्ट्रव्यापी लॉक डाउन की अनिच्छा के बावजूद पूरे राज्य में लॉक डाउन की घोषणा कर दी. 

बयान में कहा गया है, ‘सभी तरह की यात्राएं, किसी भी स्थान पर किसी भी तरह के सामाजिक, धार्मिक या किसी भी उद्देश्य के लिए सभा, सार्वजनिक और निजी सहित सभी कार्यालयों पूरी तरह बंद रहेंगे.’ सिंध के मुख्यमंत्री ने राज्य में कोरोनो वायरस से निपटने के लिए 290 वेंटिलेटर, 3.2 मिलियन व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण और 29 पोर्टेबल एक्स-रे मशीनों की खरीद को भी मंजूरी दी है. मुख्यमंत्री ने 100 रैपिड किट एंटीजेन टेस्ट मशीनों की खरीद को भी मंजूरी दे दी है.

Coronavirus: ब्रिटेन के प्रिंस चार्ल्स हुए कोरोनावायरस से संक्रमित

वहीं प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि राष्ट्रव्यापी लॉक डाउन से अर्थव्यवस्था को नुकसान होगा. अपने एक बयान में पीएम खान ने कहा कि देश को पूर्ण लॉक डाउन के तहत नहीं रखा जाएगा क्योंकि यह गरीबी रेखा के नीचे रहने वाली आबादी को तेज गति से बढ़ने वाले मामलों के बावजूद नुकसान पहुंचाएगा. इसके साथ ही खान ने कहा कि देश में इस वैश्विक महामारी के तहत वुहान में फंसे छात्रों को नहीं लाने के सख्त लेकिन अच्छे फैसले से कोई विदेश मामला सामने नहीं आया है. 

टिप्पणियां

अफगानिस्तान: काबुल में गुरुद्वारे पर बंदूकधारियों ने किया हमला, 11 की मौत: स्थानीय मीडिया

दूसरी ओर सिंध में लॉक डाउन का पूर्णतः पालन किया जा रहा है. किसी भी प्रकार की व्यापारिक या सामाजिक गतिविधि नहीं हो रही है. हर कोई कोरोना के फैलाव को रोकने के प्रयास में लगा हुआ है. हालांकि सिंध में एक पूर्ण लॉक डाउन और अन्य प्रांतों में आंशिक लॉकडाउन ने दैनिक मजदूरी वाले मजदूरों को सबसे ज्यादा चोट पहुंचाई है, जिसमें आवश्यक सेवाओं के अलावा कोई भी काम कहीं भी नहीं हो रहा है. 

Articles You May Like

New launch: Motorola ने लॉन्च किया Moto G8 Power Lite, जानें कीमत
कोरोना वायरस से जुड़ी अनिश्चितता के कारण वैश्विक बाजार में गिरावट का दौर जारी
फोल्डेबल फोन: Samsung Galaxy Z Flip का स्पेशल एडिशन लॉन्च, जानें खासियत
Coronavirus: नेपाल के बीरगंज में साढ़े तीन सौ भारतीय मजदूर एक कॉलेज में बंद
Latest Bhojpuri Video Song: खेसारी लाल यादव और काजल राघवानी के भोजपुरी सॉन्ग का धमाका, खूब देखा जा रहा वीडियो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *