नारायण मूर्ति के दामाद ऋषि सुनक बने ब्रिटेन के नए वित्त मंत्री

दुनिया

लंदन:

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने भारतीय मूल के राजनेता ऋषि सुनक को गुरुवार को नया वित्तमंत्री बनाया. सुनक इंफोसिस के सह-संस्थापक नारायण मूर्ति के दामाद हैं. वह जॉनसन मंत्रिमंडल में भारतीय मूल के दूसरे बड़े मंत्री हैं. भारतीय मूल की ही प्रीति पटेल इस समय ब्रिटेन की गृह मंत्री हैं. इससे पहले पाकिस्तानी मूल के साजिद जाविद के पास वित्त मंत्रालय का कार्यभार था. उन्होंने अप्रत्याशित रूप से हाल ही में पद से इस्तीफा देने की घोषणा की थी.

टिप्पणियां

दिसंबर में हुए आम चुनाव में जॉनसन के नेतृत्व में कंजरवेटिव पार्टी भारी कामयाबी के साथ दोबारा सत्ता में आई है और प्रधानमंत्री ने इस बार अपने मंत्रिमंडल में बड़ा फेरबदल किया है. सुनक अभी तक जाविद के कनिष्ठ के तौर पर वित्त मंत्रालय में काम कर रहे थे. ब्रिटेन के प्रधानमंत्री कार्यालय ने एक बयान में कहा, ‘महारानी (एलिजाबेथ द्वितीय) ऋषि सुनक को नया वित्त मंत्री बनाए जाने को मंजूरी देकर उत्साहित हैं.’ सुनक ने ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय और स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय से दर्शन शास्त्र, राजनीति अर्थशास्त्र और एमबीए की पढ़ाई की है. वह पहली बार 2015 में सांसद बने थे और उसके बाद उन्होंने कंजरवेटिव पार्टी में तेजी से तरक्की की.

राजनीति में आने से पहले सुनक एक सफल कारोबारी भी रह चुके हैं. वह ब्रिटेन की छोटी कंपनियों का वित्त पोषण करने वाली एक अरब पाउंड की एक निवेश कंपनी के सह-संस्थापक रहे हैं. सुनक ब्रेक्जिट के बड़े समर्थक रहे हैं और उनका मानना है कि ब्रेक्जिट से ब्रिटेन के छोटे कारोबारियों को मदद मिलेगी. इस सप्ताह के मंत्रिमंडल फेरबदल में भारतीय मूल के सांसदों आलोक शर्मा और सुएला ब्रेवरमैन को भी पदोन्नति मिलने की उम्मीद है.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Articles You May Like

मलाइका अरोड़ा की हमशक्ल पहुंच गई पारस छाबड़ा के स्वयंवर में पूछा ऐसा सवाल उड़ गए होश- देखें Video
AGR पर वोडा आइडिया को मिल सकती है राहत, नहीं समेटना होगा कारोबार!
बादल ने खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में संयुक्त अरब अमीरात के साथ निवेश अवसरों पर चर्चा की
Tanhaji Box Office Collection Day 42: अजय देवगन की ‘तान्हाजी’ ने तोड़ा अक्षय कुमार का रिकॉर्ड, कमाए इतने करोड़
शाहीन बाग: 2 घंटे बात पर नहीं माने प्रदर्शनकारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *