राशि

हर किसी के मन में अधिक से अधिक धन कमाने की इच्छा होती है, जिससे वह ना केवल अपने सपने पूरे कर सके बल्कि अपने परिवार की भी हर जरूरत को भी पूरा कर सके। लेकिन आमतौर पर वही लोग जीवन में हर क्षेत्र में सफलता की सीढ़ी चढ़ते हैं जो पूरी लग्न के साथ
0 Comments
अक्‍सर ही हम अपनी लापरवाहियों के चलते तमाम परेशानियों से जूझते रहते हैं लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि अगर आप अपनी अनदेखी करने वाली छोटी-छोटी बातों में सुधार ले आएं तो आपके जीवन में सुख और समृद्धि हमेशा के लिए बनी रहेगी। जी हां फेंगशुई के मुताबिक कुछ ऐसी आदतें हैं जिनमें सुधार ले
0 Comments
कहते हैं कि यदि ईश्‍वर के सच्‍चे उपासक हैं तो किसी देवालय में जाने की जरूरत ही नहीं होती क्‍योंकि वह तो हृदय में बसते हैं। शायद यही वजह है कि ‘जमगाहन गांव’ में रहने वाला एक खास रामनामी समाज किसी मंदिर में जाने की बजाए श्रीराम के दर्शन खुद में ही करते हैं। यहांं
0 Comments
घर लेना हर किसी का सपना होता है। हर कोई चाहता है कि उसके सपनों का घर जब हकीकत में तब्‍दील हो तो वहां ढेर सारी खुशियां और प्‍यार ही प्‍यार हो। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि घर लेने से पहले कुछ बातों का ख्‍याल रखना बेहद जरूरी होता है। अन्‍यथा हो सकता है
0 Comments
डॉ. प्रणव पण्ड्याभारत वर्ष में हनुमान को सर्वांगीण बल का प्रतीक माना गया है। हनुमानजी की स्थापना जगह-जगह होती है। यह हमारे यहां कभी समय बल उपासना के व्यापक प्रसार का स्मृति चिन्ह है। श्री हनुमान के व्यक्तित्व का परिचय देते हुए कहा गया है-मनोजवं मारुत तुल्यवेगं जितेन्द्रियं बुद्धिमना वरिष्ठम।वातात्मजं वानरयूथ मुख्यं श्रीरामदूतं शरणं प्रपद्ये॥इस
0 Comments
नंदकिशोर श्रीमालीवर्तमान में धर्म विवाद का विषय-वस्तु बन गया है। इसका कारण है कि धर्म को लेकर हमारी समझ अंग्रेजी भाषा के रिलीजन शब्द से प्रभावित होकर अत्यंत संकीर्ण हो गई है। धर्म का अर्थ रिलीजन से कहीं अधिक विस्तृत और व्यापक है। धर्म शब्द की उत्पत्ति ‘धृ’ धातु से हुई है, जिसका अर्थ धारण
0 Comments
संकलन: दीनदयाल मुरारकाघटना उस समय की है, जब पंडित गोविंद बल्लभ पंत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे। उनकी गिनती देश के सबसे ईमानदार राजनेताओं में होती थी। वह कोई विशेष सुविधा नहीं लेते थे और न ही कभी सरकारी पैसे से अपना कोई निजी काम करते थे। एक बार पंत जी ने सरकारी बैठक की।
0 Comments
ईसा मसीह ने मानवता की भलाई के लिए हंसते हंसते अपनी जान दे दी और इस दिन को ‘गुड फ्राइडे’ के रूप में दुनिया भर में मनाया जाता है। जिस दिन उन्‍हें सूली पर चढ़ाया गया उस दिन शुक्रवार था, इसलिए इस दिन को गुड फ्राइडे के रूप में मनाया जाता है। उन्‍होंने लोगों को
0 Comments
अगर कोई नया कार्य, रोजगार आदि शुरू करने की सोच रहे हैं तो अवश्य करें, सफलता अवश्य मिलेगी। अविवाहितों के विवाह की बात आगे बढ़ेगी, सुखमय दिन।
0 Comments
करियरः ऑफिस में वरिष्‍ठों से सोच-समझकर ही बात करें। यदि किसी परेशानी में विवाद की स्थिति दिखे तो क्रोध करने से बचें। ख्‍याल रहे सुनी-सुनाई बातों पर ध्‍यान नहीं देना चाहिए। पारिवारिक जीवनः पत्‍नी के स्‍वास्‍थ्‍य को लेकर चिंता हो सकती है। संतान पक्ष से कोई सुखद समाचार मिलेगा। किसी मेहमान के आने की संभावना
0 Comments
करियरः व्‍यवसाय में तरक्‍की होगी। नौकरी में काम सुधारने का दिन है। किसी विशेषज्ञ की सलाह से आपको लाभ भी हो सकता है। पारिवारिक जीवनः माता पक्ष से सं‍तोष मिलेगा लेकिन संतान की ओर से निराशा मिलने की आशंका है। आर्थिक स्थितिः आज आय में वृद्धि होगी। लेकिन अनावश्‍यक खर्च भी होंगे। स्वास्थ्य: किसी भी
0 Comments
करियर: आज आपके मान- प्रतिष्‍ठा में होगी। नौकरी में तबादले का योग तरक्‍की लेकर आएगा। विरोधी परास्‍त होगे। पारिवारिक जीवनः माता-पिता के साथ समय अच्‍छा बीतेगा। ननिहाल पक्ष से सुखद समाचार मिलेगा। आर्थिक स्थितिः किसी को दिया हुआ उधार धन आज वापस मिलने का योग है। स्वास्थ्य: छोटी-मोटी बिमारियों से परेशान होने की आशंका। सुझाव:
0 Comments
अगर कोई नया कार्य, रोजगार आदि शुरू करने की सोच रहे हैं तो अवश्य करें, सफलता अवश्य मिलेगी। अविवाहितों के विवाह की बात आगे बढ़ेगी, सुखमय दिन।
0 Comments
आचार्य चाणक्य को भारत के महान राजनीतिज्ञ और अर्थशास्त्री का दर्जा दिया गया है। उनमें जन्म से ही नेतृत्व करने के गुण थी। अपने ज्ञान और नीतियों के वजहों से ही चंद्रगुप्त मौर्य के युग की स्थापना की थी। उन्होंने जीवन को सफल व श्रेष्ठ बनाने के लिए कई नीतियां लिखी हैं। इन्हें अपनाकर व्यक्ति
0 Comments
चाणक्‍य महाज्ञानी थे, यही वजह है कि आज अरसे बाद भी उनकी कही गई बातें सार्थक होती दिखती हैं। उनकी नीतियां आज भी लोगों को जीवन के सिद्धांत, दुनियादारी और रिश्‍तों को समझने की सीख देते हैं। चाणक्‍य की कही हुई नीतियों में से एक नीति है कि जीवन में 6 चीजों अग्नि, पानी, स्‍त्री,
0 Comments
कहते हैं न कि हाथों की चंद लकीरों में ही हमारा भाग्‍य छिपा होता है। हमारे जीवन में आने वाली तब्‍दीलियां, खुशियां और तकलीफ सबका लेखा-जोखा इन लकीरों में दर्ज होता है। ऐसी ही एक रेखा होती है हमारे हाथों में विवाह की रेखा। जो यह तय करती है कि वैवाहिक जीवन में प्‍यार होगा
0 Comments