छठ पूजा 2018: जानें कब है छठ और पूजा के दौरान बन रहे हैं कौन से शुभ मुहूर्त

राशि


32558-4-do-you-know-these-8-important-facts-about-chhath.jpg

इस साल 11 नवंबर से शुरू हो रहा है छठ पूजा का महापर्व। यह त्योहार 4 दिन तक मनाया जाता है। यह बिहार राज्य के प्रमुख त्योहारों में से एक है। छठ पूजा के चार दिवसीय अनुष्ठान में पहले दिन नहाय-खाए दूसरे दिन खरना और तीसरे दिन डूबते हुए सूर्य की पूजा और चौथे दिन उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देते हैं। आइए, जानते हैं इस पूजा के महत्व और विधि-विधान के बारे में…

इस बार नहाए-खाए 11 नवंबर को, खरना 12 नवंबर को, सांझ का अर्घ्य 13 नवंबर को और सुबह का अर्घ्य 14 नवंबर को है। नहाए-खाए के दिन महिलाएं और पुरुष नदियों में स्नान करते हैं। इस दिन चावल, चने की दाल इत्यादि बनाए जाते हैं। इस दिन विशेष रूप से कद्दू की सब्जी और पकवान बनाए जाते हैं इसलिए इस दिन को कदुआ भात भी कहते हैं।

दूसरे दिन यानी खरना के दिन से महिलाएं और पुरुष छठ का उपवास शुरू करते हैं, इन्हें छठवर्ती कहते हैं। इसी दिन शाम के समय प्रसाद बनाया जाता है। प्रसाद में चावल, दूध के पकवान, ठेकुआ (घी, आटे से बना प्रसाद) बनाया जाता है। साथ ही फल, सब्जियों से पूजा की जाती है। ठेकुआ को छोड़कर बाकी प्रसाद पूजा के बाद सभी को बांटा जाता है।

छठ के तीसरे दिन शाम यानी सांझ के अरखवाले दिन शाम के पूजन की तैयारियां की जाती हैं। छठवर्ती पूरे दिन निर्जला व्रत करते हैं और शाम के पूजन की तैयारियां करते हैं। इस दिन नदी, तालाब खड़े होकर ढलते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। फिर पूजा के बाद अगली सुबह की पूजा की तैयारियां शुरू हो जाती हैं और लाखों लोग एक साथ नदियों में खड़े होकर सूर्य को अर्घ्य प्रदान करते हैं।

छठ का व्रत निर्जला व्रत है। इसे करनेवाले लोग इस व्रत में 36 घंटे तक बिना पानी पिए रहते हैं। बिहार और पूर्वी उत्तरप्रदेश में छठ आस्था व भक्ति के साथ मनाई जाती है।

जानें, कब बन रहे हैं कौन-से योग

ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, इस बार रविवार 11 नवंबर को नहाय-खाए पर सिद्धि योग का संयोग बन रहा है। साथ ही सांझ के अर्घ्यवाले दिन यानी 13 नवंबर को अमृत योग व सर्वार्थ सिद्धि योग का संयोग बन रहा है। जबकि छठ के अंतिम दिन अर्थात प्रात:कालीन अर्घ्य पर बुधवार 14 नवंबर को सुबह के समय छत्र योग का संयोग बन रहा है। हिंदू धर्म में सूर्य को जल देने का बहुत महत्व है और छठ पूजा के पावन पर्व पर ढलते और उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देने से कई पापों का नाश होता है।

Products You May Like

Articles You May Like

उपेंद्र कुशवाहा बोले- अब सीटों पर अमित शाह से नहीं सिर्फ प्रधानमंत्री मोदी से ही बात होगी
Facebook Messenger ऐप में आया भेजे हुए मैसेज को डिलीट करने वाला फीचर, ऐसे करेगा काम
Samsung Galaxy A9 (2018):4 रियर कैमरे वाले फोन की पहली झलक
यूपी में एनकाउंटर : सुप्रीम कोर्ट में योगी सरकार ने याचिका को दुर्भावना से प्रेरित बताया
पंचांग 16 नवंबरः वृश्चिक संक्रांति इस सयय तक पुण्यकाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *